ये कहते है भारत मे डर लगता है Bharat me dar lagta hai Poem

ये कहते है भारत मे डर लगता है Bharat me dar lagta hai Poem

ये कहते है भारत मे डर लगता है Bharat me dar lagta hai Poem
ये कहते है भारत मे डर लगता है Bharat me dar lagta hai Poem

देश में आये दिन कुछ न कुछ होता रहता है, और देश में ऐसे ढेरों विभाजन कारी नीतियों वाले लोग है जो देश कि बुराई, और देश का नुकसान करने में लगे रहते है, बात बात में ट्विटर पर fb पर social मीडिया या समाचार में सुनने को मिलता है कि इन्हें भारत में डर लगता है, यह कविता उन्ही लोग पर है.

Desh ke Gaddaron par Kavita

तभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

100 में से 80 बईमान फिर भी मेरा देश महान,
ऊंची है दुकान फीका है पकवान,
तबभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

करोड़ो के घोटाले नेता बात बात में कर जाते है,
भारत माता को लूटकर ये जिंदा रह जाते है।
तबभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

एक के बाद एक जुल्म कर

संविधान खतरे में यह कहकर चिल्लाते है।
तबभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

गैंगरेप का आरोपी खुद को बेकसूर बताता है,
इतने मे भी यहां वकील उसका हमदर्द बन जाता है
तबभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

निर्भया के इंसाफ के लिए रोती बिलखती है माँ,
इस अंधे कानून को देख आरोपी हँसता रह जाता है,
तबभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

वेवजह के पब्लिक को वोट के लिये भड़काते है,
उसी वोट से ये नेता बन जाते है,
तबभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

भारत की धरती पर रहकर करते  भारत को करें बदनाम,
जिस थाली में खाते है उसी में छेद कर जाते है,
तबभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

बात बात में हिन्दू मुस्लिम करके ये दिखाते है,
न जाने कितने गरीब बेचारे बेमतलब के मरे जाते,
तबभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

देश को बाटने में हर पल कोशिश करते रहते,
देश के कानून के साथ हर वक्त खेलते रहते,
तबभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

है न अजीब बात, दिल भारत का दुखाते है,
जख्म ये भारत को देते है,
तबभी भाई ये कहते है भारत मे डर लगता है।

Written by: Ramesh Kahar

ये कविता आपको कैसी लगी हमें कमेंट बॉक्स में जरुर बताये.

खुद को आइना दिखाना Khud ko aaina dikhana Poem

**************************************************

आपने इस post ये कहते है भारत मे डर लगता है Bharat me dar lagta hai Poem के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है इस post ये कहते है भारत मे डर लगता है Bharat me dar lagta hai Poem इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको ये कहते है भारत मे डर लगता है Bharat me dar lagta hai Poem की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि Facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.

धन्यवाद!

3 thoughts on “ये कहते है भारत मे डर लगता है Bharat me dar lagta hai Poem”

Leave a Comment