Chess शतरंज

Table of Contents

Chess शतरंज भारतीय खेल

Chess शतरंज के खेल का आविष्कार भारत में हुआ था और इसे मूल रूप से अष्टपद (चौंसठ वर्ग) कहा जाता था। माना जाता है कि शतरंज का आविष्कार 1500 साल पहले भारत में हुआ था। 15 वीं शताब्दी में रानी के आगमन और 1800 के दशक में कुछ छोटी आवाजाही के समायोजन के बाद से खेल में थोड़ा बदलाव आया है।

Chess शतरंज
Chess शतरंज

“अष्टपद” संस्कृत में मकड़ी के लिए कहा जाता है. – “आठ पैरों के साथ एक पौराणिक” 8×8 चेकर बोर्ड पर पासा के साथ खेला गया था। आज की Chess शतरंज की बिसात में 1,000 साल तक हम जैसे प्रकाश और अंधेरे वर्ग नहीं थे। अन्य भारतीय बोर्डों में 10 × 10 दासपद और 9 × 9 शनिवारांकम शामिल थे। इस खेल को चतुरंग के रूप में जाना जाता है। संस्कृत नाम चतुरंग का अर्थ है ‘चतुर्भुज’ – चार अंग (चार भागों में विभाजित)। Chess शतरंज का सबसे पहला ज्ञात रूप दो हाथ वाली चतुरंग है, संस्कृत के लिए “सेना की 4 शाखाएँ”।

उस समय की वास्तविक भारतीय सेनाओं की तरह, टुकड़ों को हाथी, रथ, घोड़े और पैदल सैनिक कहा जाता था। आधुनिक शतरंज के विपरीत, चतुरंगा मुख्य रूप से मौका का खेल था; परिणाम इस बात पर निर्भर करते हैं कि आपने पासा को कितनी अच्छी तरह रोल किया। चतुरंगा को शतरंज के सबसे शुरुआती रूप के रूप में जाना जाता है। 2, 3 या 4 खिलाड़ियों द्वारा एक प्रामाणिक कपड़े के खेल की सतह पर खेला गया, चतुरंगा मौका की गतिशील चुनौती के साथ Chess शतरंज की मूल रणनीति को जोड़ती है क्योंकि प्रत्येक चाल लकड़ी के पासा के यादृच्छिक रोल द्वारा निर्धारित की जाती है।

चतुरंग ’के प्रमाण पासे के साथ खेले गए हैं, जो अब भी असामान्य नहीं है, हालांकि इस संस्करण में इसमें संयोग से अधिक कौशल शामिल था। वास्तव में, महाभारत में युधिष्ठिर और दुर्योधन ने पासा का उपयोग करके चतुरंग का एक संस्करण खेला। खेल चतुरंगा एक लड़ाई सिमुलेशन गेम था जिसने उस समय की भारतीय सैन्य रणनीति का प्रतिपादन किया था।

600 ईस्वी में इस खेल को फारसियों द्वारा सीखा गया था जिन्होंने इसे शत्रुंज (Chess शतरंज ) नाम दिया था। शत्रुंज फारसियों और अरबियों के बीच एक विदेशी शब्द है, जबकि चतुरंगा शब्द से इसकी प्राकृतिक व्युत्पत्ति स्पष्ट है। फिर से बिशप के लिए अरबी नाम की पुष्टि करें, हाथी का अर्थ है, जो भारतीय हाथी से निकला है।

यहां तक ​​कि ‘चेकमेट’ शब्द भी फारसी शब्द शाह मेट से लिया गया है जिसका अर्थ है ‘राजा मर चुका है!’। इस शब्द का संस्कृत अनुवाद क्षत्र मृता होगा। एक और शब्द। ‘बदमाश ’जो शतरंज में इस्तेमाल किए जाने वाले काउंटरों के एक सेट का नाम है, जिसका जन्म फारसी शब्द रोथ से हुआ है जिसका अर्थ सैनिक होता है। फारसी शब्द भारतीय शब्द रुख से लिया गया है, जो स्पष्ट रूप से संस्कृत शब्द रक्षक में उत्पन्न हुआ है, जिसका अर्थ है रक्षा से सैनिक जिसका अर्थ है ‘रक्षा करना’।

फारस में इस खेल की शुरुआत के बारे में, एनकैलोपेडिया ब्रिटानिका का कहना है कि फारसी कवि फिरदौसी, अपनी ऐतिहासिक कविता, शाहनामा में, चोस्रोस I अनुशिरन के शासनकाल में फारस में शत्रुंज (Chess शतरंज ) के परिचय का लेखा-जोखा देता है, जिसके लिए राजदूत आए थे। हिंद (भारत) के संप्रभु, एक शतरंज बोर्ड और पुरुषों ने उसे खेल के रहस्यों को सुलझाने के लिए कहा, अगर वह श्रद्धांजलि दे या दे सकता है। राजा ने सात दिनों की कृपा मांगी, इस दौरान बुद्धिमान लोगों ने रहस्य की खोज करने की कोशिश की।

अंत में, राजा के मंत्री ने टुकड़ों को घर ले लिया और एक दिन और रात में रहस्य की खोज की। एनसाइक्लोपीडिया ब्रिटानिका का निष्कर्ष है कि “अन्य फ़ारसी और अरब लेखकों ने कहा कि शत्रुंज भारत से फारस में आया था और वहाँ एक राय बनती दिखाई देती है जिसे प्रश्न का निपटारा करने के लिए माना जा सकता है। इस प्रकार हमारे पास हिंदुओं से फारसियों के लिए खेल है। फिर 7 वीं शताब्दी में खलीफाओं द्वारा फारस पर कब्जा करने के बाद, और उनसे, सीधे या परोक्ष रूप से, यूरोप के विभिन्न हिस्सों में, एक समय में निश्चित रूप से तय नहीं किया जा सकता है,

लेकिन 10 वीं शताब्दी से पहले या उससे पहले । यह कि यूरोपीय खेल का स्रोत अरबी पर्याप्त है, न ही केवल “चेक” और “मेट” शब्दों से, जो जाहिर तौर पर शाह चटाई से हैं (“राजा मर चुका है”), लेकिन कुछ के नामों से भी टुकड़े।
स्थानीय विविधताएँ

चतुरंगा के तमिल रूपांतर ‘पुलियाट्टम’ (बकरी और बाघ का खेल) हैं, जहां एक त्रिकोण पर सावधानीपूर्वक कदम तय करते हैं कि बाघ बकरियों को पकड़ता है या बकरियों को भागता है; star नक्षत्रम ‘या स्टार गेम जहां प्रत्येक खिलाड़ी दूसरे को काटता है; और चार, आठ या दस वर्गों के साथ ‘दिनकट्टम ’, एक प्रकार का लूडो। ‘दयाकट्टम’ के भिन्नरूपों में ‘दिनकरम’, उत्तर भारतीय ‘पचीसी’ और ‘चंपार’ शामिल हैं। कई और स्थानीय विविधताएँ हैं।

अब बात यह बनती है की इतना मजे दार खेल खेले कैसे? How to play Chess शतरंज?

indian-chess-board
Chess शतरंज
chess coin
Chess शतरंज

सबसे पहले Chess शतरंज के सैनिको के बारे में जानना होगा जो वह भी बड़ा ही मजे दार है. इसमें काले और सफ़ेद रंग के डिब्बों को मिलाकर कुल ६४ खाने होते है. इस प्रकार सफ़ेद रंग के १६ और काले रंग के १६ सैनिको वाली दो दो फौजे होती है. जिसमे दोनों तरफ १ राजा, १ सेनापति, २ घोड़े, २ ऊंट, २ हाथी, ८ सैनिक.

राजा
राजा: पुरे खेल में राजा पर ही खेल खेला जाता है, राजा ख़त्म खेल खत्म. इसलिए इसे अंत तक बचाने की कोशिश होती है. और यदि अंत में आपके सभी सैनिक, हाथी, ऊंट, मंत्री मर जाये तो आपको राजा के बल ही खेल को खेलना होगा. यह अपनी चाल एक घर (एक खाने) में वर्ग के किसी भी दिशा में चलना होता है. याद रहे यदि राजा को चेक दिया गया होतो वह एक भी चाल नहीं चल सकता है. चेक कर अर्थ यहाँ आपको आगाह किया गया है की आप यह राजा अगली चाल में मर सकता है. और यदि चेक मेट किया होतो आप अब नहीं खेल सकते मतलब यह की आपका राजा पूरी घिर चूका है और अगले किसी भी चाल में राजा का मरना तय है. अर्थात यह की खेल की समाप्ति. 
किंग
Chess शतरंज
mantri Chess शतरंज
मंत्री, वजीर, सेनापति, रानी: बहुत से खिलाडी अपना खेल इसी सैनिक पर आश्रित होकर खेलते है, ऐसा भी कहा जाता है सेनापति खेल का आधी जान होता है. यह आप वर्ग की किसी भी दिशा में कितने भी खाने की चाल सकते हो.
mantri 1 Chess शतरंज
Chess शतरंज
elephant Chess शतरंज
हाथी: हाथी भी इस खेल का अहम् सैनिक होता है जो दोनों तरफ से आपके सेना और राजा की रक्षा करता है. इसे आप सीधे कितने भी चाल चल सकते है. पर याद रहे सीधे, दाये, बाये, पीछे की ओर घूम सकते है. 
elephant 1 Chess शतरंज
Chess शतरंज

horse Chess शतरंज
घोडा : घोडा  भी इस खेल का अहम् सैनिक होता है इसकी चाल सबसे अलग होती है. यह तिरछा डेढ कदम अथवा ढाई कदम चलना होता है. यह एक मात्र सैनिक होता है जो कूद सकता है. 
horse 1 Chess शतरंज
Chess शतरंज
camel Chess शतरंज
ऊंट: ऊंट भी इस खेल का अहम् सैनिक होता है जो दोनों तरफ से होने वाले घुसपैठ से आपके सेना और राजा की रक्षा करता है. इसकी चल तिरछी होती है और यह कितने भी कदम चल सकता है. 
camel 1 Chess शतरंज
Chess शतरंज
soldier Chess शतरंज
सैनिक: यह एक छोटा सा सिपाही होता है. पर खेल को इसके बल पर भी जीता जा सकता है. बस आपकी रणनीति अच्छी होनी चाहिए. यह हमेशा एक कदम सिर्फ आगे की ओर चलता है. इसे आप पीछे नहीं ले सकते. और यदि किसी को मात देना है तो आपको तिरछे की तरफ के सैनिक को मार सकते है. 
sainik Chess शतरंज
Chess शतरंज

इस समय भारत में इन शतरंज के खेल के महानायक के रूप में विश्वनाथन आनंद को देखा जाता है. जाने उनके बारे में.

ठीक उसी तरह भारत ही नहीं विश्व के क्रिकेट महानायक सचिन तेंदुलकर के बारे में जाने.

**************************************************************

आपने इस post how to play chess के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है 50 how to play chess इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको 50 how to play chess की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.

धन्यवाद!

Leave a Comment