Hindi Kahani story of ant pigeon and hunter

Table of Contents

Hindi Kahani ant pigeon and hunter story

Hindi kahaniya

चींटी कबूतर और शिकारी की कहानी हिंदी में story of ant pigeon and hunter hindi

hindi Kahani story of ant pigeon and hunter
hindi Kahani story of ant pigeon and hunter

चींटी, कबूतर और शिकारी की कहानी (ant pigeon and hunter story in hindi) chiti aur kabutar ki kahani

hindi Kahani ant pigeon and hunter story इस कहानी को पढ़ने पर हर किसी के मन में दूसरों की मदद करना चाहेंगे है चींटी और कबूतर कहानी को हर एक व्यक्ति पसंद करता है

चींटी और कबूतर की कहानी chiti aur kabutar ki kahani
एक खुबसूरत हरा भरा बगीचा था, और उस बगीचे से एक नदी भी गुजरती थी. और उस  नदी के किनारे एक पेड़ था। उस पेड़ पर तरह तरह के पक्षी पेड़ की छाया लेने आते थे ठंडी हवा पाकर बड़े ही खुश होते थे। उसी पेड़ के जड़ो के नीचे चीटियों का घर था । और उस पेड़ के ऊपर ही एक ऐसा घोसला बना था जिसमे एक कबूतर भी रहा करती थी।

यह कहानी भी पढ़े: hindi Kahani Ek sher ek chuha ki Kahani hindi me

एक समय की बात है। चींटी को प्यास लगी थी, इसलिए पानी पीने के लिए नदी की तरफ गई। उस समय नदी में एका-एक बहाव उठा उस बहाव से  चींटी पानी में डूबने लगी । चींटी अब डूबने लगी, और डूबने से मरने ही वाली ही थी उसी समय कबूतर की नजर उस चींटी पर पड़ी । कबूतर ने देखा उस चींटी की जान खतरे में है, उसने तुरंत पेड़ से एक पत्ते को तोड़ कर नदी में उस जगह पर गिरा दिया जहा चींटी डूब रही थी। समय पाते ही चींटी झट से पत्ते पर चढ़ कर अपनी जान बचा ली।

यह कहानी भी पढ़े: hindi Kahani Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर

चींटी जस तस कर अपनी जान बचा कर बाहर आयी, नदी के बाहर आने के बाद चींटी उस कबूतर को धन्यवाद कहना चाहती थी लेकिन उसे कबूतर मिली नहीं, और वह वहां से अपने घोसले में चली गयी । कुछ समय बीता। एक दिन एक शिकारी, शिकार करते करते उस पेड़ के पास आ खड़ा हुआ। और अपना शिकार ढूंढने लगा उसकी नजर पेड़ की डाल पर बैठी कबूतर पर पड़ी। शिकारी ने अपने धनुष से कबूतर पर निशाना साधने लगा, जैसे ही वह बाण चलाता वैसे ही शिकारी को चींटी ने देख लिया। चींटी को अपने एहसान का बदला पूरा करने का मौका मिल गया. यह ऐसा समय था जब चीटीं को अपने जान पर खेल कर कबूतर की मदद करना था।

hindi Kahani story of ant pigeon and hunter
hindi Kahani story of ant pigeon and hunter

चींटी ने अपने साथियों को भी बुलाई और उन्हें जल्दी से शिकारी के पास जाकर शिकारी के पैर में यहाँ वहां सब मिलकर काटने लगे। चींटी के काटने से शिकारी परेशान होगा गया और शिकारी का निशाना चूक गया। उसके धनुष से तीर कबूतर को न लगकर पेड़ के दुसरे तरफ जा लगा। कबूतर तुरंत जल्दी से वहाँ से उड़ गई। इधर शिकारी के पैर में काटने के बाद चींटी वह उसके साथी वहां से भाग गए । शिकारी यह सब कुछ बस देखता रहा और अपने पैरों को खुजलाता रहा। कुछ दिन के बाद वह कबूतर अपने घोसले से नीचे उतरी और चींटी से मिली और चींटी को शुक्रिया कहा। इसके बाद चींटी और कबूतर एक अच्छे दोस्त बन गए।

यह कहानी भी पढ़े: hindi Kahani टोपीवाला और बंदर की कहानी

चींटी और कबूतर की कहानी (ant and pigeon story in hindi) से हमें सीख मिलता है कि हमें अपना फायदा सोचे बिना किसी की भी मदद कर देना चाहिए। हमें यह कभी नहीं सोचना चाहिए कि हमें मदद के बदले क्या मिलेगा।

hindi Kahani ant pigeon and hunter story

Is hindi Kahani ko padhane par har kisee ke man mein doosaron kee madad karana hoga chiti aur kabootar kahani ko har ek vyakti pasand karata hai.

ek khubasoorat hara bhara parisar tha, aur us bageeche se ek nadi bhi gujaratee thee. aur us nadee ke kinaare ek ped tha. us ped par tarah tarah ke pakshee ped kee chhaaya lene aate the thandee hava paakar bade hee khush hote the. usee ped ke jado ke neeche chitiyon ka ghar tha. Aur us ped ke oopar ek hee ghosala bana tha jisamen ek kabootar bhi rahata tha.

ek samay kee baat hai. chiti ko pyaas lagee thee, isalie paanee peene ke lie nadee kee taraph gaya. us samay nadee mein eka-ek bahaav utha ki bahaav se chiti pani mein doobane lagee. chiti ab doobane lagee, aur doobane se marane hee vaalee hee usee samay kabootar kee najar us chiti par padee. kabootar ne dekha ki chiti kee jaan khatare mein hai, usane turant ped se ek patte ko tod kar nadee mein us jagah par gira diya jahaan chiti doob rahee thee. samay paate hee chiti jhat se patte par chadh kar apanee jaan bacha lee.

chiti jas tas kar apanee jaan bachaane kar baahar aayee, nadee ke baahar aane ke baad chiti us kabootar ko dhanyavaad kahana chaahatee thee lekin use kabootar mila nahin, aur vah vahaan se apane ghosale mein chalee gayee. kuchh samay beeta. ek din ek shikaaree, shikaar karate hain us ped ke paas aa khada hua. aur apana shikaar dhoondhane laga usakee najar ped kee daal par baithee kabootar par padee.

shikaaree ne apane dhanush se kabootar par nishaana saadhane laga, jaise hee vah baan aur vaise hee shikaaree ko cheentee ne dekh liya. chiti ko apane ehasaan ka badala poora karane ka mauka mil gaya. yah aisa samay tha jab chiti ko apane jeevan par khel kar kabootar kee madad karanee thee.

chiti ne apane saathiyon ko bhee bulaee aur unhen jaldee se shikaaree ke paas jaakar shikaaree ke pair mein yahaan sab saath kaatane lage. chiti ke kaatane se shikaaree pareshaan ho gaya aur shikaaree ka nishaana chook gaya. usake dhanush se teer kabootar ko na lagakar ped ke dusare paksh kee lagaee jaatee hai. kabootar turant jaldee se vahaan se ud gae. idhar shikaaree ke pair mein kaatane ke baad chiti vah usake saathee vahaan se bhaag gaya.

shikaaree yah sab kuchh bas dekhata raha aur apane pairon ko khujalaata raha. kuchh din ke baad vah kabootar apane ghosale se neeche utaree aur cheentee se milee aur chiti ko shukriya kaha. isake baad chiti aur kabootar ek achchhe dost ban gae.

chiti aur kabootar kee kahaanee (ant and pigaion story in hindi) se hamen seekh milatee hai ki hamen apana phaayada soche bina kisee kee bhee madad karanee chaahie. hamen yah kabhee nahin sochana chaahie ki hamen madad ke badale kya.


आपने इस post hindi Kahani story of ant pigeon and hunter के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा। और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा। हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके। जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े।

यदि आपको लगता है hindi Kahani story of ant pigeon and hunter इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है।

और यदि आपको hindi Kahani story of ant pigeon and hunter की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है।


Leave a Comment