Hindu tan man hindu jivan poem Atal Ji ki Kavita

Table of Contents

Hindu tan man hindu jivan poem Atal Ji ki Kavita

अटल जी की कविता रग-रग हिन्दू मेरा परिचय

अटल जी की कविता : हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय

Hindu tan man hindu jivan poem Atal Ji ki Kavita
Hindu tan man hindu jivan poem Atal Ji ki Kavita

मैं शंकर का वह क्रोधानल कर सकता जगती क्षार-क्षार।
डमरू की वह प्रलय-ध्वनि हूं जिसमें नचता भीषण संहार।
रणचण्डी की अतृप्त प्यास, मैं दुर्गा का उन्मत्त हास।
मैं यम की प्रलयंकर पुकार, जलते मरघट का धुआंधारय।
फिर अन्तरतम की ज्वाला से, जगती में आग लगा दूं मैं।
यदि धधक उठे जल, थल, अम्बर, जड़, चेतन तो कैसा विस्मय?
हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय!

मैं आदि पुरुष, निर्भयता का वरदान लिए आया भू पर।
पय पीकर सब मरते आए, मैं अमर हुआ लो विष पी कर।
अधरों की प्यास बुझाई है, पी कर मैंने वह आग प्रखर।
हो जाती दुनिया भस्मसात्, जिसको पल भर में ही छूकर।
भय से व्याकुल फिर दुनिया ने प्रारंभ किया मेरा पूजन।
मैं नर, नारायण, नीलकंठ बन गया न इस में कुछ संशय।
हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय!

मैं अखिल विश्व का गुरु महान्, देता विद्या का अमरदान।
मैंने दिखलाया मुक्ति-मार्ग, मैंने सिखलाया ब्रह्मज्ञान।
मेरे वेदों का ज्ञान अमर, मेरे वेदों की ज्योति प्रखर।
मानव के मन का अंधकार, क्या कभी सामने सका ठहर?
मेरा स्वर नभ में घहर-घहर, सागर के जल में छहर-छहर।
इस कोने से उस कोने तक, कर सकता जगती सौरभमय।
हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय!

मैं तेज पुंज, तमलीन जगत में फैलाया मैंने प्रकाश।
जगती का रच करके विनाश, कब चाहा है निज का विकास?
शरणागत की रक्षा की है, मैंने अपना जीवन दे कर।
विश्वास नहीं यदि आता तो साक्षी है यह इतिहास अमर।

यदि आज देहली के खण्डहर, सदियों की निद्रा से जगकर।
गुंजार उठे उंचे स्वर से ‘हिन्दू की जय’ तो क्या विस्मय?
हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय!
दुनिया के वीराने पथ पर जब-जब नर ने खाई ठोकर।
दो आंसू शेष बचा पाया जब-जब मानव सब कुछ खोकर।
मैं आया तभी द्रवित हो कर, मैं आया ज्ञानदीप ले कर।
भूला-भटका मानव पथ पर ‍चल निकला सोते से जग कर।

पथ के आवर्तों से थक कर, जो बैठ गया आधे पथ पर।
उस नर को राह दिखाना ही मेरा सदैव का दृढ़ निश्चय।
हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय!

Read : Aarambh Hai Prachand आरंभ है प्रचंड – Gulaal

मैंने छाती का लहू पिला पाले विदेश के क्षुधित लाल।
मुझ को मानव में भेद नहीं, मेरा अंतस्थल वर विशाल।
जग के ठुकराए लोगों को, लो मेरे घर का खुला द्वार।
अपना सब कुछ लुटा चुका, फिर भी अक्षय है धनागार।
मेरा हीरा पाकर ज्योतित परकीयों का वह राजमुकुट।
यदि इन चरणों पर झुक जाए कल वह किरीट तो क्या विस्मय?
हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय!

मैं ‍वीर पुत्र, मेरी जननी के जगती में जौहर अपार।
अकबर के पुत्रों से पूछो, क्या याद उन्हें मीना बाजार?
क्या याद उन्हें चित्तौड़ दुर्ग में जलने वाला आग प्रखर?
जब हाय सहस्रों माताएं, तिल-तिल जलकर हो गईं अमर।
वह बुझने वाली आग नहीं, रग-रग में उसे समाए हूं।
यदि कभी अचानक फूट पड़े विप्लव लेकर तो क्या विस्मय?

हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय!
होकर स्वतंत्र मैंने कब चाहा है कर लूं जग को गुलाम?
मैंने तो सदा सिखाया करना अपने मन को गुलाम।
गोपाल-राम के नामों पर कब मैंने अत्याचार किए?
कब दुनिया को हिन्दू करने घर-घर में नरसंहार किए?

कब बतलाए काबुल में जा कर कितनी मस्जिद तोड़ीं?
भूभाग नहीं, शत-शत मानव के हृदय जीतने का निश्चय।
हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय!
मैं एक बिंदु, परिपूर्ण सिन्धु है यह मेरा हिन्दू समाज।
मेरा-इसका संबंध अमर, मैं व्यक्ति और यह है समाज।
इससे मैंने पाया तन-मन, इससे मैंने पाया जीवन।
मेरा तो बस कर्तव्य यही, कर दूं सब कुछ इसके अर्पण।

मैं तो समाज की थाती हूं, मैं तो समाज का हूं सेवक।
मैं तो समष्टि के लिए व्यष्टि का कर सकता बलिदान अभय।
हिन्दू तन-मन, हिन्दू जीवन, रग-रग हिन्दू मेरा परिचय!
साभार- मेरी इक्यावन कविताएं

hindu tan man hindu jivan lyrics

गीत नहीं गाता हूँ | कविता

Hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

mai śaṁkara kā vaha krodhānala kara sakatā jagatī kṣāra kṣāra
ḍamarū kī vaha pralayadhvani hūṁ jisame nacatā bhīṣaṇa saṁhāra
raṇacaṁḍī kī atṛpta pyāsa mai durgā kā unmatta hāsa
mai yama kī pralayaṁkara pukāra jalate maraghaṭa kā dhuvādhāra
phira aṁtaratama kī jvālā se jagatī me āga lagā dūṁ mai
yadi dhadhaka uṭhe jala thala aṁbara jaḍa cetana to kaisā vismaya
hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

mai āja puruṣa nirbhayatā kā varadāna liye āyā bhūpara
paya pīkara saba marate āe mai amara huvā lo viṣa pīkara
adharoṁkī pyāsa bujhāī hai maine pīkara vaha āga prakhara
ho jātī duniyā bhasmasāta jisako pala bhara me hī chūkara
bhaya se vyākula phira duniyā ne prāraṁbha kiyā merā pūjana
mai nara nārāyaṇa nīlakaṇṭha bana gayā na isame kucha saṁśaya
hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

mai akhila viśva kā guru mahāna detā vidyā kā amara dāna
maine dikhalāyā muktimārga maine sikhalāyā brahma jñāna
mere vedoṁ kā jñāna amara mere vedoṁ kī jyoti prakhara
mānava ke mana kā aṁdhakāra kyā kabhī sāmane sakaṭhakā sehara
merā svarṇabha me gehara gehera sāgara ke jala me cehera cehera
isa kone se usa kone taka kara sakatā jagatī saurabha mai
hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

mai tejaḥpunja tama līna jagata me phailāyā maine prakāśa
jagatī kā raca karake vināśa kaba cāhā hai nija kā vikāsa
śaraṇāgata kī rakṣā kī hai maine apanā jīvana dekara
viśvāsa nahī yadi ātā to sākṣī hai itihāsa amara
yadi āja dehali ke khaṇḍahara sadiyoṁkī nidrāa se jagakara
guṁjāra uṭhe unake svara se hindu kī jaya to kyā vismaya
hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

duniyā ke vīrāne patha para jaba jaba nara ne khāī ṭhokara
do āsū śeṣa bacā pāyā jaba jaba mānava saba kucha khokara
mai āyā tabhi dravita hokara mai āyā jñāna dīpa lekara
bhūlā bhaṭakā mānava patha para cala nikalā sote se jagakara
patha ke āvartoṁse thakakara jo baiṭha gayā ādhe patha para
usa nara ko rāha dikhānā hī merā sadaiva kā dṛḍhaniścaya
hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

maine chātī kā lahu pilā pāle videśa ke sujita lāla
mujhako mānava me bheda nahī merā antaḥsthala vara viśāla
jaga se ṭhukarāe logoṁko lo mere ghara kā khulā dvāra
apanā saba kucha hūṁ luṭā cukā para akṣaya hai dhanāgāra
merā hīrā pākara jyotita parakīyoṁkā vaha rāja mukuṭa
yadi ina caraṇoṁ para jhuka jāe kala vaha kiriṭa to kyā vismaya
hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

mai vīraputra meri jananī ke jagatī me jauhara apāra
akabara ke putroṁse pūcho kyā yāda unhe mīnā bajhāra
kyā yāda unhe cittoḍa durga me jalanevālī āga prakhara
jaba hāya sahastro mātāe tila tila kara jala kara ho gaī amara
vaha bujhanevālī āga nahī raga raga me use samāe hūṁ
yadi kabhi acānaka phūṭa paḍe viplava lekara to kyā vismaya
hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

Hindu tan man hindu jivan poem Atal Ji ki Kavita
Hindu tan man hindu jivan poem Atal Ji ki Kavita

hokara svatantra maine kaba cāhā hai kara lūṁ saba ko gulāma
maine to sadā sikhāyā hai karanā apane mana ko gulāma
gopāla rāma ke nāmoṁpara kaba maine atyācāra kiyā
kaba duniyā ko hindu karane ghara ghara me narasaṁhāra kiyā
koī batalāe kābula me jākara kitanī masjida toḍī
bhūbhāga nahī śata śata mānava ke hṛdaya jītane kā niścaya
hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

mai eka bindu paripūrṇa sindhu hai yaha merā hindu samāja
merā isakā saṁbandha amara mai vyakti aura yaha hai samāja
isase maine pāyā tana mana isase maine pāyā jīvana
merā to basa kartavya yahī kara dū saba kucha isake arpaṇa
mai to samāja kī thāti hūṁ mai to samāja kā hūṁ sevaka
mai to samaṣṭi ke lie vyaṣṭi kā kara sakatā balidāna abhaya
hindu tan man hindu jivan rag rag hindu mera parichay ||

Leave a Comment