Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत

Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत

Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत
Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत

Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत

story of poor farmer and his wife

ये एक लोक कथा है। गांवों में अक्सर सुनाई जाती है। किसी गांव में एक गरीब किसान था। घर में उसकी पत्नी और वो दो ही लोग थे। उनके दिन गरीबी में गुजर रहे थे। किसान के पास कुल जमा एक गाय और दो बोरी अनाज ही था। पति-पत्नी दोनों ही दिन-रात अपने भाग्य को कोसते रहते, भगवान से शिकायत करते कि उन्हें इतना गरीब क्यों बनाया। इसी तरह से दोनों के दिन गुजर रहे थे।

एक दिन गांव में एक साधु आया। वो गांव भर में भिक्षा मांगता हुआ उस किसान के घर भी पहुंचा। जैसे ही साधु ने किसान के घर आवाज लगाई, उसकी पत्नी और उसने अपने भाग्य को कोसना शुरू कर दिया। तुम्हें हम क्या दान दें महाराज, हमारा तो खुद का जीवन भिखारियों सा ही गुजर रहा है। ना कपड़े हैं ढंग के ना घर में अनाज है। भगवान हमारे साथ इतना अन्याय कर रहा है जबकि हमने तो किसी का कुछ बिगाड़ा भी नहीं है।

साधु उनकी समस्या समझ गया। उसने कहा देवी भाग्य भगवान नहीं बनाता, हमारे कर्म ही भाग्य बनाते हैं। भगवान तो केवल कर्मों का फल दे रहा है। किसान और उसकी पत्नी ने फिर जवाब दिया बाबा हमने ऐसे कौन से पाप किए हैं जो ऐसा जीवन भुगत रहे हैं। हमने तो कभी कोई पाप किए ही नहीं लेकिन कभी भी घर में एक गाय और दो बोरी अनाज से ज्यादा कुछ रहता ही नहीं। साधु ने कहा अगर तुम ज्यादा धन चाहते हो तो मैं एक उपाय सुझाता हूं, अगर तुम मेरा कहना मानोगे तो जरूर तुम्हारे पास भी बहुत धन और सम्पत्ति होगी।

Wings of Fire: An Autobiography of Abdul Kalam : श्री अब्दुल कलाम जी की यह मोटिवेशन देने वाली बुक कम दामो में खरीदना चाहते हो तो क्लिक करें.

एक पारस पत्थर Ek paras Patthar Ki Kahani की कहानी पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें.

Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत : दोनों पति-पत्नी साधु के चरणों में बैठ गए। दोनों ने कहा कि जो आप कहेंगे हम वो करेंगे। साधु ने कहा तो सबसे पहले अपनी ये गाय और दो बोरी अनाज इसे भी बाजार में जाकर बेच दो। पति-पत्नी दोनों सहम गए। महाराज अगर ये भी बेच दिया तो हमारे पास तो कुछ बचेगा ही नहीं, हम तो और कंगाल हो जाएंगे। दोनों ने जवाब दिया।

Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत
Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत

kisan aur uski patni ka mehnat ki kahani

साधु ने समझाया मैं जो कह रहा हूं वैसा करो, अगर नुकसान हुआ तो भरपाई मैं कर दूंगा, मैं तुम्हें फिर से एक गाय और दो बोरी अनाज ला दूंगा। डरते-डरते दोनों राजी हुए। किसान ने बाजार में जाकर गाय और अनाज को बेच दिया। धन लेकर घर लौटा। फिर साधु ने कहा अब एक काम करो, इस धन से उन गरीबों को भोजन कराओ जिनके पास खाने को कुछ नहीं है। किसान ने वैसा ही किया। कई गरीबों को भोजन करा दिया। ये बात गांव जमींदार को पता चली कि गरीब किसान ने अपनी गाय और अनाज बेचकर भूखों को खाना खिला दिया।

उसने तुरंत अपने सेवक को भेजकर किसान के घर एक गाय और दो बोरी अनाज भिजवा दिया। साधु ने फिर किसान से कहा कि इसे भी बेचकर आओ और कल फिर गरीबों को भोजन कराओ। किसान ने फिर ऐसा ही किया। तो फिर किसी ने उस किसान को दान में एक गाय और दो बोरी अनाज भिजवा दिए। साधु के कहने पर किसान रोज गरीबों को इसी तरह भोजन कराता रहा और उसके यहां रोज दान आने लगा। लोग उसकी मदद करने लगे कि ये किसान गरीब होकर भी भूखों को भोजन कराता है।

धीरे-धीरे उस किसान की ख्याति दूसरे गांवों में भी फैल गई। धीरे-धीरे दान आने का दायरा बढ़ता गया। बहुत दिन गुजर गए। किसान गरीब से सम्पन्न हो गया। उसने एक दिन साधु से पूछा कि अचानक मेरे भाग्य में इतना अनाज और धन कैसे आ गया। साधु ने उसे समझाया कि तू इस धन से दूसरों को भोजन करा रहा है ये उन्हीं के भाग्य का धन है जो भगवान तुझे दे रहे हैं।

कहानी का सार story with moral : Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत

हमेशा अपनी असफलताओं और दुर्भाग्य के लिए भाग्य या भगवान को कोसना ठीक नहीं है। अपने कर्म बदलकर देख लें। संभव है कि हमारे कर्म ही ऐसे ना हो कि भाग्य उसमें साथ दे।

Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत Mehanat aur Kismat ki Kahani इस कहानी में मेहनत और किस्मत के खेल को देखा ये चाहे तो इन्सान बुलंदी और नहीं तो वहीँ खाक छानते बैठा रहता है.

Mehanat aur Kismat ki Kahani kisan aur uski patni ka mehnat ki kahani
Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत

Mehnat aur Kismat ki Kahani kisan aur uski patni ka mehnat ki kahani

yah ek lok katha hai. gaanvon mein aksar sunaee jaatee hai. kisee gaanv mein ek gareeb kisaan tha ghar mein usakee patnee aur vo do hee log the. unake din gareebee mein gujar rahe the. kisaan ke paas kul jama ek gaay aur do boree anaaj hee tha. pati-patnee donon hee-raat apane bhaagy ko kosate rahate hain, bhagavaan se shikaayat karate hain ki unhen itana gareeb kyon banaaya gaya. isee tarah se donon ke din gujar rahe the.

ek din gaanv mein ek saadhu aaya. vah gaanv bhar mein bhiksha maangata hua ki kisaan ke ghar bhee pahunche. jaise hee saadhu ne kisaan ke ghar aavaaj lagaee, usakee patnee aur usane apane bhaagy ko kosana shuroo kar diya. aapako ham kya daan den mahaaraaj, hamaara to khud ka jeevan bhikhaariyon kee hee gujar raha hai. na kapade hain dhang ke na ghar mein anaaj hai. bhagavaan hamaare saath itana anyaay kar raha hai jabaki hamane to kisee ka kuchh bigaada bhee nahin hai.

Mehnat aur Kismat ki Kahani kisan aur uski patni ka mehnat ki kahani

saadhu unakee samasya ko samajh gae. unhonne kaha ki devee bhaagy bhagavaan nahin banaatee, hamaare karm hee bhaagy banaate hain. bhagavaan to keval karmon ka phal de raha hai. kisaan aur usakee patnee ne phir javaab diya baaba hamane aise kaun se paap kie hain jo aisa jeevan bhugat rahe hain. hamane to kabhee koee paap kiya hee nahin lekin kabhee bhee ghar mein ek gaay aur do boree anaaj se jyaada kuchh hee nahin rahata hai. saadhu ne kaha agar tum jyaada dhan chaahate ho to main ek upaay aasaanee se karoonga, agar tum mera kahana maanoge to jaroor tumhaare paas bhee bahut dhan aur sampatti hogee.

mehnat aur kismat kismat aur kismat: donon pati-patnee saadhu ke charanon mein baith gae. donon ne kaha hai ki jo tum sege ham vo karenge. saadhu ne kaha to sabase pahale apanee ye gaay aur do boree anaaj ise bhee baajaar mein jaakar bech do. pati-patnee donon saham gae. mahaaraaj agar ye bhee bech die to hamaare paas to kuchh bachega hee nahin, ham to aur kangaal ho jaenge. donon ne javaab diya.

saadhu ne nirdisht kiya main jo kah raha hoon vaisa karo, agar nukasaan hua to bharo main kar doonga, main tumhen phir se ek gaay aur do boree anaaj la doonga. darate-darate donon raajeev hue. kisaan ne baajaar mein jaakar gaay aur anaaj ko bech diya. ghar vaapasee ke baare mein dhan. phir saadhu ne kaha ki ab ek kaam karo, is dhan se un gareebon ko bhojan karana chaahie jinake paas khaane ko kuchh nahin hai. kisaan ne vaisa hee kiya. kaee gareebon ko bhojan kara diya gaya. ye baat gaanv jameendaar ko pata chalee ki gareeb kisaan ne apanee gaay aur anaaj bechakar bhookhon ko khaana khila diya.

unhonne turant apane sevak ko bhejakar kisaan ke ghar ek gaay aur do boree anaaj bhijava diya. saadhu ne phir kisaan se kaha ki ise bhee bechakar aao aur kal phir gareebon ko bhojan karao. kisaan ne phir aisa hee kiya. to phir kisee ne us kisaan ko daan mein ek gaay aur do boree anaaj bhijava diya. saadhu ke kahane par kisaan roj gareebon ko isee tarah bhojan dete rahe aur usake yahaan roj daan aate rahe. log usakee madad karane lage ki ye kisaan gareeb saath hee bhookhon ko bhojan kee suvidha dete hain.

Mehnat aur Kismat ki Kahani kisan aur uski patni ka mehnat ki kahani

dheere-dheere us kisaan kee khyaati doosare gaanvon mein bhee phail gaee. dheere-dheere daan aane ka dora uthata hai. bahut din gujar gae. kisaan gareeb se sampann ho gae hain. usane ek din saadhu se poochha ki achaanak mere bhaagy mein itana anaaj aur dhan kaise aa gaya. saadhu ne use nirdisht kiya ki aap is dhan se doosaron ko bhojan kara rahe hain ye unheen ke bhaagy ka dhan hai jo bhagavaan tune de rahe hain.

kahaanee ka saar : Mehnat aur Kismat ki Kahani kisan aur uski patni ka mehnat ki kahani

hamesha apanee asaphalataon aur durbhaagy ke lie bhaagy ya bhagavaan ko kosana theek nahin hai. apane karm badalakar dekh len. sambhav hai ki hamaare karm hee aise na ho ki bhaagy usamen saath de.

Mehnat aur Kismat ki Kahani kisan aur uski patni ka mehnat aur Kismat ki kahani is kahaanee mein mehanat aur kismat ke khel ko dekha yah chaahe to insaan bulandee aur nahin to vaheen khaak chhaanate baitha rahata hai.

************************************************

आपने इस post Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.

धन्यवाद!

1 thought on “Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत”

Leave a Comment