150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran

150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran

150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran
150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran

List of Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran

संधि विग्रह व संधि के नाम: 150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran

शब्द संधि विग्रह संधि के नाम
स्वाधीन  स्व + आधीन दीर्घ संधि
पुस्तकालय  प्रधान + अध्यापक दीर्घ संधि
प्रधानाध्यापक  प्रधान + अध्यापक दीर्घ संधि
स्वाध्याय  स्व + अध्याय दीर्घ संधि
सर्वाधिक  सर्व + अधिक दीर्घ संधि
योजनावधि  योजन + अवधि दीर्घ संधि
विद्यालय  विद्या + आलय दीर्घ संधि
अन्तकरण  अंत + करण विसर्ग संधि
अंतर्गत  अंत : + गत विसर्ग संधि
अंतर्ध्यान  अंत + ध्यान विसर्ग संधि
अन्योक्ति  अन्य + उक्ति गुण संधि
अनायास  अनु + आयास व्यंजन संधि
अध्याय  अधि + आय यण संधि
अध्यन  अधि + अयन यण संधि
अधिकांश  अधिक + अंश दीर्घ संधि
आकृष्ट  आकृष + त व्यंजन संधि
अविष्कार  आवि : + कार विसर्ग संधि
आत्मावलंबन आत्मा + अवलम्बन दीर्घ संधि
आध्यात्मिक आधि + आत्मिक यण संधि
अत्यधिक  अति + अधिक यण संधि
अत्यावश्यक  अति + आवश्यक यण संधि
इत्यादि  इति + आदि गुण संधि
परोपकार  पर + उपकार गुण संधि
चिरायु  चिर + आयु दीर्घ स्वर संधि
तथास्तु  तथा + अस्तु दीर्घ स्वर संधि
परमेश्वर  परम + ईश्वर दीर्घ गुण संधि
महोदय  महा + उदय दीर्घ गुण संधि
पदोन्नति  पद + उन्नति दीर्घ गुण संधि
सर्वोच्च  सर्व + उच्च दीर्घ गुण संधि
प्रत्येक  प्रति + एक यण स्वर संधि
नागाधिराज  नाग + अधिराज दीर्घ स्वर संधि
अनावृष्टि  अन + आवृष्टि दीर्घ स्वर संधि
पीताम्बर  पोत + अम्बर दीर्घ स्वर संधि
मतानुसार  मत + अनुसार दीर्घ स्वर संधि
युगानुसार  युग + अनुसार दीर्घ स्वर संधि
सत्याग्रही  सत्य + आग्रही दीर्घ स्वर संधि
समांनातर  समान + अंतर दीर्घ स्वर संधि
स्वाभिमानी  स्व + अभिमानी दीर्घ स्वर संधि
गुरुत्वाकर्षण  गुरुत्व + आकर्षण दीर्घ स्वर संधि
हिमांचल  हिम + अंचल दीर्घ स्वर संधि
अखिलेश  अखिल + ईश दीर्घ स्वर संधि
यथोचित  यथा + उचित दीर्घ स्वर संधि
रहस्योद्घाटन  रहस्य + उद्घाटन दीर्घ स्वर संधि
लोकोशक्ति  लोक + उक्ति दीर्घ स्वर संधि
सर्वोत्तम  सर्व + उत्तम दीर्घ स्वर संधि
अत्यधिक  अति + अधिक यण स्वर संधि
अखिलेश्वर  अखि + ईश्वर गुण स्वर संधि
स्वेच्छा  स्व + इच्छा गुण स्वर संधि
मरणोंत्तर  मरण + उत्तर गुण स्वर संधि
प्रत्यक्ष  प्रति + अक्ष यण स्वर संधि
प्रत्याघात  प्रति + अघात यण स्वर संधि
दोषारोपण  दोष + आरोपण दीर्घ स्वर संधि
महत्वाकांक्षा  महत्व + आकांक्षा दीर्घ स्वर संधि
भावुक  भौ + उक अयादि संधि
भास्कर  भाः + कर विसर्ग संधि
भानूदय  भानु + उदय दीर्घ संधि
भिन्न  भू + न व्यंजन संधि
भूर्जित  भू + उर्जित दीर्घ संधि
भूदार  भू + उदार दीर्घ संधि
भूषण  भूष + अन व्यंजन संधि
मनस्पात  मन : + ताप विसर्ग संधि
मनोहर  मन : + हर विसर्ग संधि
मनोयोग  मन : + योग विसर्ग संधि
मनोरथ  मन : + रथ विसर्ग संधि
मनोविकार  मन : + विकार विसर्ग संधि
राज्याभिषेक  राज्य + अभिषेख दीर्घ स्वर संधि
स्वाधीनता  स्व + आधीनता दीर्घ स्वर संधि
अंतर्गत  अंत + गत विसर्ग संधि
सर्वोदय  सर्व + उदय गुण स्वर संधि
अत्यधिक  अति + अधिक स्वर संधि
निर्दोष  निः + दोष विसर्ग संधि
दोषारोपण  दोष + आरोपण दीर्घ स्वर संधि
निबुद्धि  नि : + बुद्धि  गुण स्वर संधि
अत्यंत  अति + अंत यण स्वर संधि
निश्चय  नि : + चय विसर्ग संधि
सारांश  सार + अंश स्वर संधि
पवन  पो + अन स्वर संधि
निर्जीव  नि : + जीव विसर्ग संधि
निर्भय  नि : + भय विसर्ग संधि
संसार  सम + सार व्यंजन संधि
प्रत्यक्ष  प्रति + अक्ष स्वर संधि
सम्बन्ध  सम + बंध व्यंजन संधि
अन्याय  अन + न्याय स्वर संधि
पुरुषोत्तम  पुरुष + उत्तम स्वर संधि
रामायण  राम + आयन स्वर संधि
निराश  निः + आश विसर्ग संधि
दिगंबर  दिक् + अम्बर व्यंजन संधि
रामायण  राम + अयन स्वर संधि
अत्याचार  अति + आचार स्वर संधि
सज्जन  सत + जन  
निष्कर्ष  निः + कर्ष  
देवासुर  देप + असुर  
हिमालय  हिम + आलय  
महात्मा  महा + आत्मा  
गिरीश  गिरी + ईश  
महेंद्र  महा + इंद्र  
महेश  महा + ईश  
नरेंद्र  नर + इंद्र  
स्वागत  सु + आगत  
देवर्षि  देव + ऋषि  
महर्षि  महा + ऋषि  
दिग्गज  दिक् + गज   
दिगविजय  दिक् + विजय  
अहंकार  अहम् + कार  
वाड्मय  वाक् + मय  
सद्वाणी  सत् + वाणी  
जगदानंद जगत् + आनंद  
दुरूपयोग  दु : + उपयोग  
निष्फल  निः + फल  
निजल  निः + जल  
दुर्घटना  दु : + घटना  
विद्यालय  विद्या + आलय  
विद्यार्थी  विद्या + अर्थी  
सर्वोपरि  सर्व + अरि  
अल्पावकाश  अल्प + अवकाश  
संतोष  सम + तोष  
सदिच्छा  सत् + इच्छा  
दुष्परिणाम  दु : + परिणाम  
निरंतर  निः + अंतर  
निराशा  निः + आशा  
सदैव  सदा + एव  
ग्रंथालय  ग्रंथ + आलय  
देवालय  देव + आलय  
संपूर्ण  सम + पूर्ण  
दुर्बल  दु : + बल  
रामावतार  राम + अवतार  
महोत्सव  महा + उत्सव  
सदिच्छा  सत् + इछा  
सत्याग्रह  सत्य + आग्रह  
रामेश्वर  राम + ईश्वर  
परमार्थ  परम + अर्थ  
सतीश  सती + ईश  
देवेंद्र  देव + इंद्र  
महेंद्र  महा + इंद्र  
चंद्रोदय  चंद्र + उदय  
एकैक  एक + एक  
जलौघ  जल + ओघ  
यद्यपि  यदि + अपि  
पित्राज्ञा  पितृ + आज्ञा  
दुष्कर  दु : + कर  
150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran

इसे पढ़े : इंग्लिश वर्ब Verb की 500 से अधिक लिस्ट देखने के लिए यहाँ क्लिक करे.

समास व उसके प्रकार हिंदी व्याकरण Samas aur Samas ke prakar Hindi Vyakaran

वाक्य के भेद Vakya ke Bhed Types of Sentence in hindi

इसमें आपको ढेरो वर्ब के हिंदी अर्थ के साथ शब्द मिल जायेंगे.

ठीक इसी तरह यदि आपको Youtube से Computer Tutorials या HSC या TYBCOM से सम्बंधित tutorials देखना है तो यहाँ क्लिक करें.

Click Here

150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran में आपको बहुत से शब्दों की जानकारी मिल चूका होगा और भी ऐसे ही उदाहरण जानने हो तो आप कमेंट कर सकते है.

आपने इस post 150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है 150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको 150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.

धन्यवाद!

1 thought on “150 संधि विग्रह हिंदी व्याकरण Sandhi Vigrah Hindi Vyakaran”

Leave a Comment