sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani

sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani

sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani
sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani

sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani

एक भूखा शेर शिकार की खोज में जंगल में घूम रहा था। घूमते -घूमते वो थक गया। उसकी भूख भी बढ़ती गयी। अकस्मात् उसे एक गुफा नज़र आयी। शेर ने सोचा कि इस गुफा में जरूर कोई जानवर रहता होगा। अच्छा हो मै उस झाडी में छिप जाऊ। ज्यों ही वह निकलेगा मैं उसे धर दबोचूंगा शेर ने काफी देर तक गुफा के बहार इंतज़ार किया , मगर कोई भी जानवर वहाँ से बाहर नहीं आया।

तब शेर ने सोचा कि लगता है वो जानवर इस वक्त गुफा में न होकर कहीं बाहर गया गया है। इस लिए उसे गुफा के अंदर जाकर उसका इंतजार करना चाहिए। जैसे ही वह गुफा के अंदर आएगा वह उसे खा जायेगा ऐसा सोचकर शेर गुफा के अंदर जाकर छिप गया। उस गुफा में एक गीदड़ रहता था।

hindi me एक शेर और एक गीदड़

थोड़ी देर वह वापस आया तो उसे गुफा के बाहर किसी के पैरो के निशान दिखाई दिए। उसे यह निशान किसी बड़े एवं खतरनाक जानवर के प्रतीत हुए। उसे किसी खतरे का एहसास हुआ।
गीदड़ बहुत ही चालाक और सायना था। उसने सोचा कि गुफा में जाने से पहले देखे मामला क्या है?

टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani इस कहानी को भी पढ़े.

Great Stories for Children बच्चों के लिए यह बुक खरीदने के लिए क्लिक करे.

उसने जोर से गुफा को आवाज लगाई -”गुफा !ओ गुफा !” लेकिन जवाब कौन देता ? गीदड़ ने फिर एक आवाज लगाई,”अरे मेरी गुफा,तू जवाब क्यों नहीं देती? आज तुझे क्या हो गया ?हमेशा मेरे लौटने पर तू मेरा स्वागत करती है। आज क्या हो गया ? अगर तूने जवाब नहीं दिया तो मैं किसी दूसरे गुफा में चला जाऊँगा। ”

गीदड़ की बात सुनकर शेर ने सोचा कि यह गुफा तो बोलकर गीदड़ का स्वागत करती है। आज मेरे यहाँ होने की वजह से शायद डर गयी है। अगर गीदड़ का स्वागत नहीं किया तो वह चला जायेगा।

ऐसा विचार कर शेर अपनी भारी आवाज में जोर से बोला -”आओ,आओ मेरे दोस्त ,तुम्हारा स्वागत है। ” इतना सुनते ही गीदड़ को एहसास हो गया की गुफा के अन्दर कोई है. और उससे उसकी जान को खतरा है. ह उसी गुफा के बाहर दरवाजे पर लकडिया इकठ्ठा कर आग लगा देता है और
शेर की आवाज सुनकर गीदड़ वहाँ से जान बचा कर भाग गया।

सीख : sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani इस कहानी में हर पल सचेत रहना चाहिए और छोटी सी मुसीबत का भी दिमाग से और डटकर सामना करना चाहिये

sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani
sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani

sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani

ek bhookha sher shikaar kee khoj mein jangal mein ghoom raha tha. ghoomate -ghoomate vah thak gaee. usakee bhookh bhee badhatee gaee. akasmaat use ek gupha nazar aayee. sher ne socha ki is gupha mein jaroor koee jaanavar nahin rahega. achchha ho mai us jhaadee mein chhip jaoo. jyon hee vah nikalega main use dababoch karega sher ne kaaphee der tak gupha ke bahaar intazaar kiya, lekin koee bhee jaanavar vahaan se baahar nahin aaya.

tab sher ne socha ki lagata hai ki vah jaanavar is jabaav mein na hokar kaheen baahar gaya hai. isake lie use gupha ke andar jaana chaahie. jaise hee vah gupha ke andar jaega vah use kha jaega aisee sochakar sherave ke andar jaakar chhip gaya. us gupha mein ek geedad rahata tha.

hindi me एक शेर और एक गीदड़

thodee der vah vaapas aaya to usase gupha ke baahar kisee ke pairo ke nishaan dikhaee die. use yah nishaan kisee bade aur khataranaak jaanavar ke lag raha tha. use kisee khatare ka ehasaas hua.
geedad bahut hee chaalaak aur saayana tha. usane socha ki gupha mein ja rahe hain, pahale dekha maamala kya hai?

usane jor se gupha ko aavaaj lagaee – “ov! ove!” lekin javaab kaun deta hai? geedad ne phir ek aavaaj lagaee, “are meree gupha, too javaab kyon nahin deta? aaj tujhe kya ho gaya hai? hamesha mere lautane par aap mera svaagat karate hain. aaj kya ho gaya hai? yadi aapane javaab nahin diya to main kisee doosare gulaam mein chala jaoonga. ”

geedad kee baat sunakar sher ne socha ki yah gupha to bolakar geedad ka svaagat karatee hai. aaj mere yahaan hone kee vajah se shaayad dar gayee hai. agar geedad ka svaagat nahin kiya jaata to vah chalee jaatee.

aisa vichaar kar sher apanee bhaaree aavaaz mein jor se bola – “aao, mere dost aao, tumhaara svaagat hai. “itana sunate hee geedad ko ehasaas ho gaya hai kee gupha ke andar koee hai. aur usase usakee jaan ko khatara hai. ha useeve ke baahar daravaaje par lakadiya ikaththa kar aag laga dee jaatee hai aur
sher kee aavaaj sunakar geedad vahaan se jaan bacha kar bhaag gaya.

सीख : sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani

is kahaanee mein har pal sachet rahana chaahie aur chhotee see pareshaanee ka bhee dimaag se aur baakee saamana karana chaahie

sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani
sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani

********************************************************

आपने इस sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.

धन्यवाद!

1 thought on “sher aur geedad एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani”

Leave a Comment