समझदारी में ही भलाई है Samjhadari Me bhalai Story

समझदारी में ही भलाई है Samjhadari Me bhalai Story

समझदारी में ही भलाई है Samjhadari Me bhalai Story
समझदारी में ही भलाई है Samjhadari Me bhalai Story

दो कुत्ते जंगली थे जो बहुत ही अच्छे दोस्त थे. एक सिन एक जंगल में दोनो जंगली कुत्ते घूमने गए थे घूमते घूमते वे दोनों को एक नदी मिली। वह उस नदी को पर करना चाहते थे परन्तु नदी गहरा था जिस कारण वह उसे पर नहीं कर प् रहे थे, तब उन्हें नदी को पार कर ने के लिए एक पतला रास्ता दिखा। पर समस्या यह थी की नदी को कोई एक बार में एक ही पार कर सकते थे यदि दोनों पार करेंगे तो वह नदी में गिर सकते थे.

दोनों कुत्ते में नदी को पहले पार कर ने के लिए होड़ मच गयी। दोनों जबरन उसपर से जाने लगे और लड़ने लगे और इस हड़बड़ी में दोनों कुत्ते उस पतले से रास्ते से फिसलकर नदी में गिर गए।

यह सब दूर खड़ी दो बकरी देख रही थी. वह पास जाती तो कुत्ते उसे काट लेते इसलिए वह वहां नहीं गयी उस अवसर को दोनो बकरी देख रही थी। बकरियों को भी नदी पार करना था और वह समझ चुके थे नदी पार कैसे करना है और वो दोनो उस दो कुत्तो की गलती से सिख ले कर दोनों बकरीयों ने आपसी सूझबूझ से उस नदी को पार किया।

उन दो कुत्तो की तरह पानी में नही गिरी। वे दोनों बकरिया रास्ता पार कर अपने -अपने घर चली गयीं।

सीख: समझदारी में ही भलाई है Samjhadari Me bhalai Story

इस कहानी से यह समझ आता है किसी भी काम को करने से पहले समझदारी दिखाए, जल्द बाजी में सिर्फ नुकसान ही हो सकता है.

और भी कहानिया देखने के लिए यहाँ क्लिक करे.

एकता में शक्ति Ekta me Shakti ki kahani Power in Unity Story

हिंदी कहानियो के apps download करें.

2 thoughts on “समझदारी में ही भलाई है Samjhadari Me bhalai Story”

Leave a Comment