Thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में

Thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में

thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में
thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में

प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में | Thirsty crow story in hindi

एक जगल में एक कौआ घूमता फिरता मद मस्त रहता था। पूरा जंगल खाने की तलास में यहाँ वहां घूमता रहा था । एक दिन दोहपर का समय था, तेज तिलमिलाती धुप था। जिसके कारण उस दिन उस कौआ को बहुत ज्यादा प्यास लग गया । वह पानी की तलाश में पूरा जंगल इधर-उधर घूम रहा था। पानी खोजने लगा, छोटे छोटे तालाब तेज गर्मी के कारण सुख चूका था ।

जिस वजह से उस कौआ को पीने को एक बूद पानी भी नहीं मिल रहा था। कुछ समय के बाद यहाँ वहां पानी की तलाश में एक झोपड़ी के पास उसे एक मटका दिखाई दिया। पहले तो वह यहाँ वहां तक झांक की, कि कोई आस पास तो नहीं है । कौआ मटके के पास पहुंचा। जब कौआ मटके के पास जाकर मटके में देखता है तो उस मटके में पानी तो है लेकिन वह पानी मटके में बहुत ज्यादा नीचे है। वह प्यास से परेशान। तिलमिलाती गर्मी उसे और परेशान कर रही थी।

यह कहानी भी पढ़े: hindi Kahani Ek sher ek chuha ki Kahani hindi me

hindi Kahani Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर

hindi Kahani टोपीवाला और बंदर की कहानी

thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में
thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में

वह बेचारा कौआ, उस कौआ की चोंच इतनी लम्बी नहीं थी कि वह मटके के पानी को चोंच डालकर पी सके। उस कौए के दिमाग में एक तरकीब आया। वह आस पास के जमीन पर पड़े छोटे छोटे पत्थर के टुकडो को देखा, और उसके अपनी चोंच से उठा कर मटके के पास रखा । फिर वह एक एक कर पत्थर के टुकडो उस मटके में डाल देता है। वह ऐसा जब तक करता तब तक की पानी ऊपर न आ जाये। कुछ समय तक मटके में पत्थर के टुकडो डालते रहने से मटके का पानी ऊपर आ जाता है।
pyasa kauwa ki kahani

कौआ बड़ा ही खुश होता है फिर वह कौआ बड़े ही आराम से पानी पीकर अपनी प्यास बुझाता है। यह सब घटना आस पास खड़े कुछ लोग छुप कर देख लेते है। जिसके बाद यह कहानी प्यासा कौआ (pyasa kauwa ki kahani) इसको लिखी जाती है। फिर प्यासा कौआ की कहानी (thirsty crow story in hindi) प्रसिद्ध हो जाती है। इस कहानी को आज भी बच्चे बड़े ही प्यार से पढ़ते है। इस कहानी को पढ़ने पर एक अच्छी सिख भी मिलता है।

Thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में : हम काम करते रहते है फिर भी हमें जल्दी उस काम का परिणाम नहीं मिलता है जिसके कारण हम उदास और मायूस हो जाते है। लेकिन हमें इस कहानी से सीख लेनी चाहिए कि हमें अपने काम को मन और इमानदारी से करना चाहिए, चाहे वह काम  कितना भी मुश्किल कठिन क्यों न हो। हमें एक दिन सफलता जरुर मिलेगी।

thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में
thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में

Ek jagal mein ek kaua ghumata firata mad mast rahata tha. Pura jangal khaane kee talaas mein yahaan ghumata raha tha. ek din dohapar ka samay tha, tej tilamilati dhup thee. Jisake kaaran us din us kaua ko bahut jyaada pyaas lag gayi. Vah pani kee talaash mein pura jangal idhar-udhar ghum raha tha. Paani khojane laga, chhote chhote talab tej garmi ke kaaran sukh chooka tha.

Jis kaaran se us kaua ko pine ko ek bood paanee bhi nahin mil raha tha. kuchh samay ke baad yahan pani ki talaash mein ek jhootha ke paas use ek maata dikhai di. Pahale to vah yahaan vahaan tak jhaanki ki, ki koi aas paas to nahin hai. Kaua matake ke paas pahunch gae. Jab kaua matake ke paas jaakar matake mein dekhata hai to vah matake mein pani to hai lekin vah pani matake mein bahut neeche hai. Vah pyas se pareshaan hai. Tilamilaatee garmee use aur pareshaan kar rahee thi.

Vah bechaara kaua, us kaua kee chonch itani lambi nahin thi ki vah matake ke pani ko chonch daal ke pee sake. Us kaue ke dimaag mein ek tarakeeb aa gaee. Usane aas paas ke jameen par lage chhote chhote patthar ke tukado ko dekha, aur usake apanee chonch se utha kar matake ke paas rakha. Phir vah ek ek kar patthar ke tukado mein matake mein daal deta hai. Vah aisa jab tak karata hai tab tak kee paanee upar na aa jae. kuchh samay tak matake mein patthar ke tukado daalate rahane se matake ka pani upar aa jaata hai.

thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में
thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी में

Kaua bada hi khush hota hai phir vah kaua bade hi aaraam se pani peekar apanee pyaas bujhaata hai. Yah sab ghatana aas paas khadee hai kuchh log chhup kar dekh lete hai. Jisake baad yah kahani pyaasa kaua (pyasa kauwa ki kahani) isako likhee jati hai. Phir pyasa kauwa ki kahani (thirsty chrow story in hindi) prasiddh ho jaatee hai. Is kahani ko aaj bhee bachche bade hi pyaar se padhate hain. Is kahani ko padhane par ek achchhee shiksha bhee milatee hai.

Ham kaam karate rahate hain phir bhee hamen jaldee se us kaam ka parinaam nahin milata hai jisake kaaran ham udaas aur niraash ho jaate hain. Lekin hamen is kahani se seekh lenee chaahie ki hamen apane kaam ko man aur imanadari se karana chaahie, chaahe vah kitana bhee kathin kyon na ho. Hame ek din saphalata jarur milegee.


आपने इस post Thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी – pyasa kauwa ki kahani in hindi हिंदी में के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा। और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा। हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके। जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े।

यदि आपको लगता है Thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी – pyasa kauwa ki kahani in hindi हिंदी में इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है।

और यदि आपको Thirsty crow story in hindi प्यासा कौआ की कहानी हिंदी – pyasa kauwa ki kahani in hindi में की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है।

Leave a Comment