टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani

टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani

टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani
टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani

यह कहानी एक टोपीवाले के चतुराई को दिखता है की वह किस तरह अपनी टोपी बंदरों से वापस लेता है.

Tटोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani

एक व्यापारी था। वह हमेशा शहर में जाकर सामान खरीदता और अपने गाँव के बाजार में बेच कर पैसे कमाता था। इस प्रकार वह बाजार से सामान खरीदता और बेच दिया करता। इससे उसको फायदा होता और वह बहुत खुश रहता। एक दिन वह सामान खरीदने के लिए शहर में गया तथा उसने बहुत सी टोपियाँ खरीदी।

रास्ते में चलते चलते वह बहुत ही थक गया। चलते -चलते उसे अचानक एक घना वृक्ष दिखाई दिया। उसने सोचा क्यों न थोड़ा इस वृक्ष के नीचे विश्राम कर लिया जाय? यह सोचकर उसने अपना टोपियों से भरा थैला पेड़ के नीचे रखा और विश्राम करने लगा। विश्राम करते -करते उसे नींद लग गयी। वह गहरी नींद में सो रहा था।

जब उसकी नींद टूटी तो उसने अपना टोपियों का थैला अपने पास न पाकर वह बहुत दुखी हुआ। फिर उसने देखा कि उसकी सारी टोपिया उसी वृक्ष पर बैठे सारे बंदरो ने पहन रखी थी यह देखकर उसे बहुत ही क्रोध आया।

उसने बंदरो से कहा मेरी सारी टोपिया मुझे वापस कर दो परन्तु बन्दर उछल कूद कर टोपीवाला का साडी टोपी यहाँ वहां फेंक कर खेल रहे थे. तब टोपीवाले ने बंदरों को पत्थर मारे तब उसके बदले बंदर उसे पेड़ पर लगे फल तोड़कर फेंकने लगे. टोपीवाला हाथ ऊपर कर चिल्लाता तो बंदर भी हाथ ऊपर कर लेते. टोपीवाला अंत में अपना हाथ अपने सर पर रखा तो बंदर भी उसकी नक़ल कर अपना हाथ सर पर रख लिए.

एक शेर-एक चूहा Ek sher aur ek chuha ki Kahani

Sher aur Khargosh ki Kahani शेर और खरगोश

छोटे बच्चों के लिए कम दामों में  1001 Activities Book लेना है तो इस लिंक पर जाओ

यह सारी बाते टोपीवाले को समझते देर न लगी वह समझ गया की बंदर उसके नकल कर रहे थे. उसके बाद टोपीवाले ने उसी तरह से बंदर को अपनी इशारों पर उसकाया, टोपीवाला अपना सर खुजलाता तो बंदर भी अपना सर खुजलाते. टोपीवाला इधर उधर जाता तो बंदर भी इधर उधर जाने लगता.

तब अंत में टोपीवाला अपना टोपी सर से उतार कर नीचे फेंका तो बंदर भी यह देख अपनी टोपी सभी बंदरो ने अपनी- अपनी टोपिया भी निकालकर जमीन पर फेक दिया। जमीन पर पड़े टोपियों को देखकर व्यापारी बहुत खुश हुआ। उसने सारी टोपियां एक जगह जमा किया और खुशी- खुशी घर लौट गया।

टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani

सीख: टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani इस कहानी में बताया गया की यदि मुसीबत पड़े तो उसका सामना डट करना चाहिए. पीछे हटने से सिर्फ और सिर्फ नुकसान ही उठाना पद सकता है. जिस तरह से टोपीवाला अंत समय तक हार नहीं माना हमें भी आखिरी तक कोशिश करते रहना चाहिए.
टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani
टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani

yah kahaanee ek topeevaale ke chaturaee ko lagatee hai kee vah kis tarah apanee topee bandaron se vaapas leta hai.
tee topeevaala aur bandar topeevaala aur bandar kee kahaanee

ek maarkar tha. vah hamesha shahar mein jaakar saamaan khareedata tha aur apane gaanv ke baajaar mein bech kar paise kamaata tha. is prakaar vah baajaar se saamaan khareedata aur bech diya karata hai. isase usako phaayada hota hai aur vah bahut khush rahatee hai. ek din vah saamaan khareedane ke lie shahar mein gaya aur usane bahut see topiyaan khareedee.

raasta mein chalate chalate vah bahut thak gaya. chalate-chalate use achaanak ek ghana vrksh dikhaee diya. usane socha kyon na thoda is vrksh ke neeche vishraam kar liya jae? yah sochakar usane apana topiyon se bhara thaila ped ke neeche rakh diya aur dobaara karane laga. vishraam karate -karate use neend lag gayee. vah gaharee neend mein so rahee thee. टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani

jab usakee neend tootee to usane apana topis ka thaila apane paas na paakar vah bahut dukhee hua. phir usane dekha ki usakee saaree topiya usee ped par baithe poore bandaro ne pahan rakhee thee yah dekhakar use bahut hee gussa aaya.

unhonne bandaro se kaha meree saaree topiya mujhe vaapas kar do lekin bandar uchhal kood kar topeevaala ka saadee topee yahaan thappad khel khel rahe the. tab topeevaale ne bandaron ko patthar maar diya aur phir usakee baaree bandar use ped par lage phal todakar phenkane lage. topeevaala haath oopar kar chillaata hai to bandar bhee haath oopar kar lete hain. topeevaala ant mein apana haath apane sar par rakha to bandar bhee usakee naqal kar apana haath sar par rakh lie.

yah sab baate topeevaale ko samajhate der na lagee vah samajh gaya kee bandar usakee nakal kar rahe the. usake baad topeevaale ne usee tarah se bandar ko apanee ishaaron par haraya, topeevaala apana sar khujalaata to bandar bhee apana sar khujalaate. topeevaala idhar udhar jaata hai to bandar bhee idhar udhar jaane lagata hai.

tab ant mein topeevaala apanee topee sar se utaar kar neeche phenka to bandar bhee yah dekh apanee topee sab bandaro ne apanee- apanee topiya bhee nikaalakar jameen par phek dee. jameen par padee topiyaan ko dekhakar maarkar bahut khush hua. usane saaree topiyaan ek jagah jama kar deen aur khushee-khushee ghar laut aaee.

टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani
seekh: topeevaala aur bandar topeevaala aur baandar kee kahaanee is kahaanee mein kaha gaya hai ki agar pareshaanee huee to usaka saamana dat kar karana chaahie. peechhe hatane se sirph aur sirph nukasaan hee utha sakate hain. jis tarah se topeevaala ant samay tak haar nahin maanata tha ki ham bhee aakhiree koshish tak rahen.

टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani


आपने इस post टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा। और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके। जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े।

यदि आपको लगता है टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है।

और यदि आपको टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है।

1 thought on “टोपीवाला और बंदर Topiwala aur Bander ki Kahani”

Leave a Comment