Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर

Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर

ek paras patthar aur garib majdur

एक पारस पत्थर Ek paras Patthar Ki Kahani
एक पारस पत्थर Ek paras Patthar Ki Kahani

एक पारस पत्थर Ek paras Patthar Ki Kahani

एक पारस पत्थर ki kahani hindi me

एक मजदुर था जो बड़ा ही इमानदार था. वह अपने काम को बड़े ही ईमानदारी से किया करता था. एक बार जब वह  गरीब मजदूर अपने घर पर सो रहा था। तभी कोई ज्ञानी बाबा पानी से व्याकुल उस मजदूर के घर आकर उस से पानी मागने लगा। उस मजदूर ने बड़े विनम्र भाव से उस बाबा की सेवा की। वह बाबा उसकी सेवाभावना से बहुत प्रसन्न हुआ।

उस बाबा ने उस मजदूर को एक पारस पत्थर दिया। और कहा की इस पत्थर से स्पर्शे कर ने पर कोई भी लोहे की वस्तू सोना हो जाएगी। और उस बाबा ने कहा की मैं इस पत्थर को परसो सुबह आ कर ले जाऊगा।

बाबा की बातो को सुनकर मजदूर के ख़ुशी का ठिकाना नही रहा। और बाबा वहा से चला गया। वो मजदूर उस पत्थर को पाकर खुशी से सो गया। और वो शाम को उठा। वह सोचने लगा जब सोना बनाना ही है तो क्यूँ न बहुत से लोहे खरीद कर उसे सोना बनाकर अमीर बन जाऊं. उसने कल सुबह लोहे की खरीदारी करने का निश्चय किया। वह खुश इतना था कि रात को मीठे मीठे पकवान बनाया और उस खाकर सो गया।

कल सुबह प्रातः काल में उठ कर लोहे की खरीदारी कर ने को बाजार चला गया। लोहे वाले की दुकान पर जाकर लोहे का तोलभाव कर ने लगा . लोहे की कीमत से संतुष्ट न हो कर वह वहा से चला गया। और सोचने लगा पारस पत्थर तो मेरे पास ही है उससे कभी भी सोना बना लूँगा. और घर आते उसने बहुत -सी वस्तुओ की खरीदारी कर ली। और इस सब में शाम हो गया ।

ek paras patthar
एक पारस पत्थर Ek paras Patthar Ki Kahani

पुरे दिन में खरदारी कर ने वह बहुत थक गया. और घर आकर सो गया। और सोचा की सुबह जल्दी उठकर लोहे की खरीदारी कर ने चल जाउगा। किन्तु वह सुबह दर तक सोया रहा। और बाबा आगये। उसके दरवाजे को खटखटाने लगे. मजदूर हड़बड़ी में उठा और बाबा से प्रार्थना करने लगा।

उनसे कुछ समय और देने के लिए उनके सामने गिड़गिड़ाने लगा। पर बाबा ने उसकी एक न मानी और उससे वह पारसी पत्थर लेकर चला गया। मजदूर ने अपनी घर के दरवाजे की कुंजी तक को भी सोना नहीं का पाया। और वह पूरा दिन खूब रोया।

कछुआ और दो बगुले Kachhua Aur do bagule ki kahani की कहानी पढ़ें.

Life’s Amazing Secrets: How to Find Balance and Purpose in Your Life को पढ़ना चाहते है तो क्लिक करे.

एक पारस पत्थर Ek paras Patthar Ki Kahani lalachka fal kahani hindi mein

सीख: लालच में व्यक्ति इस कदर घिर जाता है कि उसे छोटे छोटे फायदे न देख बड़ा फायदे के बारे में सोचने लगता है जिसमें आकर वह अपना कुछ भी फायदा नहीं कर पता. इसलिए अधिक लालच बुरी बात होती है.

Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर
Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर

Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर

ek dharmadur tha jo bada hee imaanadaar tha. vah apane kaam ko bade hee eemaanadaaree se kiya karata tha. ek baar jab vah gareeb majadoor apane ghar par so raha tha. keval noyanaanee baaba paanee se vyaakul us majadoor ke ghar aakar us se paanee magane laga. us majadoor ne badee vinamr bhaav se us baaba kee seva kee. vah baaba usakee sevaabhaavana se bahut prasann hua.

us baaba ne us majadoor ko ek paaras patthar diya. aur kaha kee is patthar se sparshe kar ne par koee bhee lohe kee vastoo sona ho jaegee. aur us baaba ne kaha kee main is patthar ko paraso subah aa kar le jaooga.

baaba kee baato ko sunakar majadoor ke khushee ka thikaana nahin raha. aur baaba vaha se chala gaya. vo majadoor us patthar ko paakar khushee se so gaya. aur vah shaam ko utha.) vah soch rahee thee jab sona banaana hee hai to kyoon na bahut se lohe kee khareed kar use sone mekar ameer ban jaoon. usane kal subah lohe kee khareedaaree karane ka nishchay kiya. vah bahut khush tha ki raat ko meethe meethele banaaya aur us khaakar so gaya.

kal subah praat: kaal mein uth kar lohe kee khareedaaree karane ko ko baajaar chala gaya. lohe vaale kee dukaan par chalate lohe ka tol abhivyakti kar ne laga diya hai. lohe kee keemat se santusht na ho kar vah vaha se chala gaya. aur sochane laga paaras patthar to mere paas hee hai kabhee use bhee sone se bana loonga. aur ghar aate usane bahut -see vastuo kee khareedaaree kar lee. aur is sab mein shaam ho gaee.

pure din mein kharaad kar usane bahut thak gaee. aur ghar aakar so gaya. aur socha kee subah jaldee uthakar lohe kee khareedaaree karane ja raha hoon. lekin vah subah tak paas raha. aur baaba aagaye. usake daravaaje ko khatakhataane lage. majadoor hadabadee mein utha aur baaba se praarthana karane laga.

unhen kuchh samay aur dene ke lie unake saamane gidagidaane laga. par baaba ne apanee ek na maanee aur usake baad vah paarasee patthar lekar chala gaya. majadoor ne apane ghar ke daravaaje kee chaabee tak ko bhee sona nahin ka paaya. aur vah poora din ro roya.

Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर

seekh: laalach mein vyakti is kadar ghir jaata hai ki use chhote chhote phaayade na dekh bade phaayade ke baare mein sochane lagata hai jisamen aakar vah apana bhee bahut phaayada nahin kar pata. isalie adhik laalach vaalee baat hotee hai.


आपने इस post Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.
धन्यवाद!

1 thought on “Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर”

Leave a Comment