जादुई चक्की jaduee Chakki Ki Kahani

जादुई चक्की jaduee Chakki Ki Kahani

जादुई चक्की jaduee Chakki Ki Kahani
जादुई चक्की jaduee Chakki Ki Kahani

Khara Pani Ki Kahani

जादुई चक्की jaduee Chakki Ki Kahani

एक रामपुर नामक गाँव में अनिल और सुनील दो भाई रहते थे। अनिल बहुत आमिर और सुनील भाई बहुत गरीब था। दोनों भाई अलग -अलग रहते थे। अनिल मज़े से खाता- पीता और सुनील गरीब होने के कारण उस के खाने की भी लाले थे। सुनील भले ही गरीब था पर इमानदार था.
एक बार सुनील जंगल से आ रहा था ,तभी कोई बुजुर्ग व्यक्ति वहाँ लकड़ी का बोझ धो रहा था। सुनील उस बुजुर्ग को देखकर तुरन्त उनके पास गया और उनका बोझ अपने सर ले लिया। और उनके घर पहुँचा दिया।

सुनील की ईमानदारी देखकर वह बुजुर्ग बहुत खुश हुआ। और उसने एक गुफा बताई जहाँ चार आदमी होगे जिनके पास एक चक्की होगी। उनसे उस को चक्की ले लेना। उनके पास जाकर कहना की पाव रोटी और वे तुम्हे वह चक्की दे देंगे। सुनील बुजुर्ग की बातो को मानकर उस गुफा में जाता है। वहाँ चार व्यक्ति उस चक्की के पास बैठे थे। सुनील उनके सामने पावरोटी कहा उन्होंने वह चक्की को सुनील को दे दिया और कहा की इस चक्की के सामने जो कहो गे वो मिलेगा वस्तू मिलने के बाद उस पर लाल कपड़ा दाल देना।


एक शेर और एक गीदड़ Ek sher aur gidad ki kahani इस कहानी को यहाँ से पढ़े

अगर आप upsc की तयारी में लगे है इस बुक को जरुर आजमाए

25 Years UPSC IAS/ IPS Prelims Topic-wise Solved Papers 1 & 2 (1995-2019)


जादुई चक्की jaduee Chakki Ki Kahani को जारी रखें.

और वह घर पर आया। उसने कहा चक्की चक्की नमक निकाल और नमक का ढेर लग गया। पर उसे अब भी इस घटना पर विश्वास नहीं हुआ तब इसी प्रकार उसने दाल,चावल ,तेल, साबुन आदि चीजे निकाली। वह रोज घर के चीजों के आलावा बाकि जरुरत की वस्तुए निकलता रहा । अब वह कुछ ही दिनों में उसके पास ऐसो आराम की वह सारी चीजें आ गए ।

अब वह अपने पडोस में अपने गाँव में सबसे आमिर हो गया था यहाँ तक की सुनील अपने अनिल भाई से भी आमिर हो गया। अनिल सुनील की कामयाबी को देखकर हैरान हो गया। अनिल को शक हुआ की इसकी कामयाबी अचानक ऐसे कैसे हुयी। रोज वह सुनील के घर बाहर जाकर देखता रहता की वह क्या करता है । एक दिन उसने चक्की को चलाते हुए देखा लिया। और अपने भाई की कामयाबी का पता लगा लिया।

और एक दिन रात को अनिल ने सुनील के घर उस चक्की को चुरा लिया। और अपना घर बार छोड़ कर एक नाव खरीद लिया और अपने पुरे घर के जरुरत के सामान को लेकर नाव पर चढ़ गया।
अनिल की पत्नी अपने मन में कब से कुछ कहने के लिए बेक़रार थी। अच्छा मौका देखकर उसने कहा की एक चक्की के लिए छोड़ दिया अपना पूरा घर बार छोड़ दिए।अब वह पति पत्नी नाव ले कर आगे जाने लगे फिर भी उसकी पत्नी परेशान थी,

आगे जाकर अनिल ने उसकी पत्नी को कुछ बताया अनिल ने कहा की तुम्हे एक एक्साम्प्ले देता हूँ। अनिल ने चक्की पर से लाल कपडा निकाल कर कहा की चक्की चक्की नमक निकाल और नमक का ढेर लगा गया किन्तु अनिल को उसे रोकना नहीं आता था। नमक का ढेर बढ़ते गया और नाव ढूब गई। ऐसा कहते है वह चक्की अभी चल रही तभी तो समुन्द्र का पानी खारा है।

सीख: जादुई चक्की jaduee Chakki Ki Kahani : इस कहानी में लालची व्यक्ति अपनी मुसीबत खुद मोल लेता है, और उससे निकल नहीं पता इसलिए कभी लालच नहीं करनी चाहिए.

*********************************************

आपने इस post जादुई चक्की jaduee Chakki Ki Kahani के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है जादुई चक्की jaduee Chakki Ki Kahani इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको जादुई चक्की jaduee Chakki Ki Kahani की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.

धन्यवाद!

Leave a Comment