सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko

सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko

सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko
सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko

एक औरत गर्भ से थी पति को जब
पता लगा की
कोख में बेटी हैं तो वो उसका गर्भपात
करवाना चाहते
हैं दुःखी होकर पत्नी अपने पति से
क्या कहती हैं :-
सुनो, ना मारो इस नन्ही कलि को,
वो खूब सारा प्यार हम पर लुटायेगी,
जितने भी टूटे हैं सपने, फिर से वो सब
सजाएगी…

सुनो, ना मारो इस नन्ही कलि को,
जब जब घर आओगे तुम्हे खूब हंसाएगी,
तुम प्यार ना करना बेशक उसको,
वो अपना प्यार लुटाएगी..
सुंनो, ना मारो इस नन्ही कलि को,
हर काम की चिंता एक पल में भगाएगी,
किस्मत को दोष ना दो, वो अपना घर
आंगन महकाएगी..

ये सब सुन पति अपनी पत्नी को कहता हैं :-
सुनो में भी नही चाहता मारना इस
नन्ही कलि को,
तुम क्या जानो, प्यार नहीं हैं
क्या मुझको अपनी परी से,
पर डरता हूँ समाज में हो रही रोज रोज
की दरिंदगी से..

ए पढ़े…. एक बच्चे की ख्वाइश : यदि मै TV या Mobile बन जाऊं TV ban jaun

क्या फिर खुद वो इन सबसे अपनी लाज
बचा पाएगी,
क्यूँ ना मारू में इस कलि को, वो बहार
नोची जाएगी..
में प्यार इसे खूब दूंगा, पर बहार किस किस
से बचाऊंगा,
जब उठेगी हर तरफ से नजरें, तो रोक खुद
को ना पाउँगा..

क्या तू अपनी नन्ही परी को, इस दौर में
लाना चाहोगी,
जब तड़फेगी वो नजरो के आगे, क्या वो सब
सह पाओगी,
क्यों ना मारू में अपनी नन्ही परी को,
क्या बीती होगी उनपे, जिन्हें मिला हैं
ऐसा नजराना,

क्या तू भी अपनी परी को ऐसी मौत
दिलाना चाहोगी..
ये सुनकर गर्भ से आवाज आती हैं
सुनो माँ पापा
में आपकी बेटी मेरी भी सुनो :-
पापा सुनो ना, साथ देना आप मेरा,
मजबूत बनाना मेरे हौसले को,
घर लक्ष्मी हैं आपकी बेटी, वक्त पड़ने पे में
काली भी बन जाउंगी,
पापा सुनो, सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko

ना मारो अपनी नन्ही कलि को,
उड़ान देना मेरे हर वजूद को,
में भी कल्पना चावला की तरह, ऊँची उड़ान
भर जाउंगी..
पापा सुनो,
ना मारो अपनी नन्ही कलि को,
आप बन जाना मेरी छत्र छाया,
में झाँसी की रानी की तरह खुद की गैरो से
लाज बचाउंगी..

पति (पिता) ये सुन कर मौन हो गया और
उसने अपने फैसले पे
शर्मिंदगी महसूस करने लगा और कहता हैं
अपनी बेटी से :-
में अब कैसे तुझसे नजरे मिलाऊंगा,
चल पड़ा था तुम्हारा गला दबाने,
अब कैसे खुद को तुम्हारे सामने लाऊंगा,
मुझे माफ़ करना ऐ मेरी बेटी,
तुझे इस दुनियां में सम्मान से लाऊंगा.. सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko

वहशी हैं ये दुनिया तो क्या हुआ,
तुझे बहादुर बिटियाँ बनाऊंगा..
मेरी इस गलती की मुझे हैं शर्म,
घर घर जाके सबका भ्रम मिटाऊंगा
बेटियां बोझ नहीं होती..
अब सारे समाज में अलख जगाऊंगा”

बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना: ऑनलाइन …

*******************************************

आपने इस post सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.

1 thought on “सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko”

Leave a Comment