16 October World Food Day…

16 October World Food Day…

“विश्व आहार दिवस” – 16 October World Food Day है न अजीब आप सोचते होंगे यह कैसा दिन है क्या हमें इस खाना मुफ्त मिलेगा?, क्या इस दिन खूब खाना चाहिए? क्या इस दिन हमें उपवास रखना होगा?

16 October World Food Day

Why is World Food Day important?

What is world food problems?

Why is world hunger a problem?

How can we stop world hunger?

ऐसा कुछ नहीं है. दुनिया भर के 130 से अधिक देशों में The Food and Agriculture Organization (FAO) द्वारा यह कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जो इसे संयुक्त राष्ट्र के कैलेंडर के सबसे प्रसिद्ध दिनों में से एक बनाता है। ये कार्यक्रम उन लोगों के लिए दुनिया भर में जागरूकता और कार्रवाई को बढ़ावा देते हैं जो भूख से पीड़ित हैं और सभी के लिए खाद्य सुरक्षा और पौष्टिक आहार सुनिश्चित करने के लिए जीरो हंगर को प्राप्त करने की आवश्यकता है।

आज अपने भारत देश में करीब १९ करोड़ से भी अधिक लोग रोजाना भूखे सोते है या उन्हें एक वक्त का भोजन भी ठीक से नहीं मिल पता. आज भारत विश्व के विकसित देशों की सूची में दाखिल होने जा रहा है पर स्थिति इसके ठीक उलट है. ग्लोबल हंगर इंडेक्स (Global Hunger Index) के अनुसार भारत विश्व में १०३ रैंक पर है अब इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है की स्थिति क्या है.

16 October World Food Day
16 October World Food Day

हम 16 October World Food Day इसमें सुधार कर सकते है.

  • शादी , पार्टी, किसी समारोह में यदि खाना बाच जाये तो उसे बहुत से NGO है जिन्हें बुलाकर इसे उन्हें दे देंगे और वे इस जरुरत मंदों तक पहंचा देंगे. और यदि हमारे आस पास ही जरुरत मंद लोग हो तो उसे बुलाकर उसे खाना खिला देंगे.
    • Mumbai Dabbawala Association : 098672 21310
    • The Akshaya Patra Foundation : 080 3014 3400 .
    • IFSA Contact Number +91-7428688776,
    • Annamrita : 022 2353 1530
  • घर पर यदि किसी कारण खाना बच जाता है तो किसी गरीब के घर जाकर उन्हें दे देना चाहिए. यहाँ तक की इसमें कई छोटे छोटे बच्चे भी होते है.
  • जन्मदिन पर अब एक नया बेवकूफी भरा ट्रेंड चला है लोग केक खाते कम है उसे फेकते या दूसरों के मुंह पर लगा देते है. यह बेवकूफी नहीं है तो क्या है. हमें उसकी कीमत समझनी चाहिए, यह वाही केक यदि की गरीब को दे दें तो बेचारों का पेट भर जायेगा.
16 October World Food Day

यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि जब लाखों लोग भूखे रहते हैं, 672 मिलियन लोग मोटापे से पीड़ित होते हैं, और आगे 1.3 बिलियन अधिक वजन वाले होते हैं। हम इसे बदल सकते हैं।

विश्व खाद्य दिवस 2018 “हमारा भविष्य हमारा भविष्य है” की थीम के साथ एसडीजी 2 – जीरो हंगर पर केंद्रित है।

क्या नोटा चुनाव में मतदाताओ के लिए एक अस्त्र के रूप में है? या एक फुस्सी सा पटाखा…..? Nota in Election इसे पढ़े.

इन वजहों से जीरो हंगर 16 October World Food Day ने दुनिया को बदल दिया…..

  •      शून्य भूख एक साल में 3.1 मिलियन बच्चों की जान बचा सकती है
  •      अच्छी तरह से पोषित माताओं में मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली वाले स्वस्थ बच्चे होते हैं
  •      बाल कुपोषण को समाप्त करने से विकासशील देश की जीडीपी में 16.5 प्रतिशत की वृद्धि हो सकती है
  •      जीवन की शुरुआत में उचित पोषण जीवनकाल की कमाई में 46 प्रतिशत अधिक हो सकता है
  •      आबादी में लोहे की कमी को दूर करने से कार्यस्थल उत्पादकता में 20 प्रतिशत की वृद्धि हो सकती है
  •      पोषण संबंधी बाल मृत्यु दर को समाप्त करने से कार्यबल में 9.4 प्रतिशत की वृद्धि हो सकती है
  •     शून्य भूख सभी के लिए एक सुरक्षित, अधिक समृद्ध दुनिया बनाने में मदद कर सकती है

यह सब बदलाव एक विकसित भारत इन सब लोगो के बिना अधुरा है, और यह हम सब को मिलकर एक विकसित भारत एक समृद्ध भारत बना सकते है.

16 October World Food Day

आपने इस post 16 October World Food Day के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है 16 October World Food Day इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको 16 October World Food Day की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.

धन्यवाद!

Leave a Comment