Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry

Table of Contents

Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry

पगली लड़की

अमावस की काली रातों में दिल का दरवाजा खुलता है,
जब दर्द की काली रातों में गम आंसू के संग घुलता है,
जब पिछवाड़े के कमरे में हम निपट अकेले होते हैं,
जब घड़ियाँ टिक-टिक चलती हैं,सब सोते हैं, हम रोते हैं,
जब बार-बार दोहराने से सारी यादें चुक जाती हैं,
जब ऊँच-नीच समझाने में माथे की नस दुःख जाती है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।

Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry
Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry

जब पोथे खाली होते है, जब हर्फ़ सवाली होते हैं,
जब गज़लें रास नही आती, अफ़साने गाली होते हैं,
जब बासी फीकी धूप समेटे दिन जल्दी ढल जता है,
जब सूरज का लश्कर छत से गलियों में देर से जाता है,
जब जल्दी घर जाने की इच्छा मन ही मन घुट जाती है,
जब कालेज से घर लाने वाली पहली बस छुट जाती है,
जब बेमन से खाना खाने पर माँ गुस्सा हो जाती है,
जब लाख मन करने पर भी पारो पढ़ने आ जाती है,
जब अपना हर मनचाहा काम कोई लाचारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।

जब कमरे में सन्नाटे की आवाज़ सुनाई देती है,
जब दर्पण में आंखों के नीचे झाई दिखाई देती है,
जब बड़की भाभी कहती हैं, कुछ सेहत का भी ध्यान करो,
क्या लिखते हो दिन भर, कुछ सपनों का भी सम्मान करो,
जब बाबा वाली बैठक में कुछ रिश्ते वाले आते हैं,
जब बाबा हमें बुलाते है,हम जाते में घबराते हैं,
जब साड़ी पहने एक लड़की का फोटो लाया जाता है,
जब भाभी हमें मनाती हैं, फोटो दिखलाया जाता है,
जब सारे घर का समझाना हमको फनकारी लगता है,
तब एक पगली लड़की के बिन जीना गद्दारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।

ये कविताये जरुर आपको पसंद आएगी:

सुनो ना मारो इस नन्ही कलि को suno na maro is nanhi kali ko
Vah re jamane teri had ho gai वाह रे जमाने तेरी हद हो गई
Mandir Masjid Kavita क्यों म से मंदिर म से मस्जिद
Ladko Ki Zindagi Aasan Nahi Hoti

Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry

दीदी कहती हैं उस पगली लडकी की कुछ औकात नहीं,
उसके दिल में भैया तेरे जैसे प्यारे जज़्बात नहीं,
वो पगली लड़की मेरी खातिर नौ दिन भूखी रहती है,
चुप चुप सारे व्रत करती है, मगर मुझसे कुछ ना कहती है,
जो पगली लडकी कहती है, मैं प्यार तुम्ही से करती हूँ,
लेकिन मैं हूँ मजबूर बहुत, अम्मा-बाबा से डरती हूँ,
उस पगली लड़की पर अपना कुछ भी अधिकार नहीं बाबा,
सब कथा-कहानी-किस्से हैं, कुछ भी तो सार नहीं बाबा,
बस उस पगली लडकी के संग जीना फुलवारी लगता है,
और उस पगली लड़की के बिन मरना भी भारी लगता है।
-डॉ कुमार विश्वास (Dr. Kumar Vishwas)

kumar vishwas poem in hindi
Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry

Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry – kumar vishwas poem in hindi

maavas kii kaalii raaton men dil kaa daravaajaa khulataa hai,
jab dard kii kaalii raaton men gam aansoo ke sang ghulataa hai,
jab pichhavaaDe ke kamare men ham nipaT akele hote hain,
jab ghaDiyaan Tik-Tik chalatii hain,sab sote hain, ham rote hain,
jab baar-baar doharaane se saarii yaaden chuk jaatii hain,
jab oonch-niich samajhaane men maathe kii nas duHkh jaatii hai,
tab ek pagalii laDkii ke bin jiinaa gaddaarii lagataa hai,
aur us pagalii laDkii ke bin maranaa bhii bhaarii lagataa hai.

pagli ladki kumar vishwas mp3 free download

jab pothe khaalii hote hai, jab harf savaalii hote hain,
jab gajlen raas nahii aatii, afsaane gaalii hote hain,
jab baasii fiikii dhoop sameTe din jaldii Dhal jataa hai,
jab sooraj kaa lashkar chhat se galiyon men der se jaataa hai,
jab jaldii ghar jaane kii ichchhaa man hii man ghuT jaatii hai,
jab kaalej se ghar laane vaalii pahalii bas chhuT jaatii hai,
jab beman se khaanaa khaane par maan gussaa ho jaatii hai,
jab laakh man karane par bhii paaro paDhne aa jaatii hai,
jab apanaa har manachaahaa kaam koii laachaarii lagataa hai,
tab ek pagalii laDkii ke bin jiinaa gaddaarii lagataa hai,
aur us pagalii laDkii ke bin maranaa bhii bhaarii lagataa hai.

jab kamare men sannaaTe kii aavaaj sunaaii detii hai,
jab darpaN men aankhon ke niiche jhaaii dikhaaii detii hai,
jab baDkii bhaabhii kahatii hain, kuchh sehat kaa bhii dhyaan karo,
kyaa likhate ho din bhar, kuchh sapanon kaa bhii sammaan karo,
jab baabaa vaalii baiThak men kuchh rishte vaale aate hain,
jab baabaa hamen bulaate hai,ham jaate men ghabaraate hain,
jab saaDii pahane ek laDkii kaa foTo laayaa jaataa hai,
jab bhaabhii hamen manaatii hain, foTo dikhalaayaa jaataa hai,
jab saare ghar kaa samajhaanaa hamako fanakaarii lagataa hai,
tab ek pagalii laDkii ke bin jiinaa gaddaarii lagataa hai,
aur us pagalii laDkii ke bin maranaa bhii bhaarii lagataa hai.

diidii kahatii hain us pagalii laDakii kii kuchh aukaat nahiin,
usake dil men bhaiyaa tere jaise pyaare jajbaat nahiin,
vo pagalii laDkii merii khaatir nau din bhookhii rahatii hai,
chup chup saare vrat karatii hai, magar mujhase kuchh naa kahatii hai,
jo pagalii laDakii kahatii hai, main pyaar tumhii se karatii hoon,
lekin main hoon majaboor bahut, ammaa-baabaa se Daratii hoon,
us pagalii laDkii par apanaa kuchh bhii adhikaar nahiin baabaa,
sab kathaa-kahaanii-kisse hain, kuchh bhii to saar nahiin baabaa,
bas us pagalii laDakii ke sang jiinaa fulavaarii lagataa hai,
aur us pagalii laDkii ke bin maranaa bhii bhaarii lagataa hai.

Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry

kumar vishwas poem in hindi
Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry

आपने इस postEk pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा। और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा। हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके। जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े।

यदि आपको लगता है Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है।

और यदि आपको Ek pagli ladki lyrics Kumar vishwas poetry की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है।

Leave a Comment