Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ

Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ

Rabbit and Tortoise Story In Hindi

Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ
Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ

खरगोश और कछुआ ki kahani hindi me

एक बहुत ही बड़ा और खुबसूरत जंगल था । जंगल में सभी जानवर हंसी -खुशी रहा करते थे उसी जंगल में एक तरफ सभी जानवरों की तरह खरगोश और कछुआ भी रहते थे,  दोनों में अच्छी दोस्ती थी । रोजाना दोनों खूब खेलते है मौज करते थे। खरगोश यह जानता था कि वह बहुत तेज दौड़ता है और कछुआ बहुत ही धीमी  चाल से चलता था । 

यही कारण था खरगोश को अपनी तेज चाल  का बहुत घमण्ड था और वह खरगोश हमेशा ही कछुये का समय समय पर मजाक उड़ाया करता था । पर कछुआ अपनी चाल को जानता था, इसलिए खरगोश की मजाक बनाने की बात का बुरा नहीं मानता था ।

Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ खरगोश अपने घमंड के कारण उसने अपने मित्र कछुआ से बोला- “दोस्त , क्या तुम मेरे साथ दौड़ लगाना चाहोगे ।”

यह सुनकर कछुए ने खरगोश से कहा ,”नहीं तुम बहुत तेज दौड़ते हो। मैं तुमसे ये दौड़ जीत नहीं पाऊँगा। परन्तु खरगोश ने कैसे -कैसे कछुए को दौड़ के लिए मना लिया।

इन सीख देने वाली कहानियों भी पढ़े:

Ek Garib Ladka Story एक गरीब लडके कि समझदारी
story bakari aur kutta Samjhadari Me bhalai Story समझदारी में ही भलाई है
ek bachche ki chah एक बच्चे की ख्वाइश यदि मै TV या Mobile बन जाऊं
main me Jina seekho पुराने मैं में नहीं नए मैं में जीना सीखो

कछुआ बोला- ‘ मित्र खरगोश जैसी तुम्हारी मर्जी , अगर तुम दौड़ करना चाहते हो तो ठीक है मुझे को आपत्ति नहीं है  । ” यह तय किया गया की दौड़ की कल सुरुआत कल सुबह होगी। अगले दिन खरगोश तथा कछुआ दोनों दौड़ के लिए तैयार हो गए। दौड़ शुरू हो गया।

जंगल के सभी जानवर दौड़ देखने के लिये आ गए । दौड़ के लिये एक पहाड़ी पर जाना था जो पहले पहाड़ी पर पहुचेगा वही जीतेगा । जंगल के सभी जानवर जानते थे की खरगोश तेज दौड़ता है उन्हें उम्मीद थी की खरगोश ही यह दौड़ जीतेगा ।

Rabbit and Tortoise Story In Hindi

दौड़ शुरू की गई । खरगोश तेजी से भागने लगा। वह बहुत ही आगे निकल गया। कछुआ धीरे -धीरे चलता हुआ आगे बढ़ रहा था। खरगोश एक छायादार पेड़ के नीचे पहुंचा और  पीछे मुड़कर देखा तो उसे कछुआ कहीं नहीं दिखा । ठंडी-ठंडी हवा चल रही थी खरगोश भागते- भागते थक गया। उसने सोचा कछुआ अभी बहुत ही पीछे होगा। क्यों न थोड़ा विश्राम कर लिया जाय? यह सोचकर वह विश्राम करने लगा खरगोश ने जैसे ही आखें बंद की उसे नींद लग गई । अचानक उसे नींद लग गई. वह गहरी नींद में सो रहा था।

kachua aur khargosh ki kahani , Rabbit and Tortoise Story In Hindi परन्तु कछुआ धीरे -धीरे आगे बढ़ रहा था। कुछ देर में कछुआ भी वहीँ पहुँच गया और देखते ही देखते वह खरगोश से आगे निकल गया।  बहुत देर बाद अचानक खरगोश की नींद खुली उसने आगे-पीछे यहाँ वहां देखा यह सोचने लगा कछुआ दिखाई नहीं दे रहा । वह भागना  शुरू किया आगे जाते ही उसने देखा की कछुआ पहाड़ी पर पहुँचने वाला है ।

वहां से खरगोश अपनी पूरी ताकत लगाकर दौड़ा पर उसके पहाड़ी पर पहुँचने के पहले ही कछुआ पहाड़ी पर पहुँच चुका था और कछुआ ने यह दौड़ जीत ली । जंगल के जानवरों को बहुत आश्चर्य हुआ वह यह देख हैरान रह गए. सभी जानवर कछुआ के साहस और जीत पर बहुत खुश हुई, उसे बधाई देने लगे।

खरगोश को अपनी हार पर बहुत पछतावा हुआ । खरगोश अपनी गलती और अभिमान पर बहुत पछताया और उसने कछुआ की हंसी उड़ाने पर कछुआ से माफ़ी मांगी । इस प्रकार घमंडी खरगोश की हार हुई तथा कछुए की जीत।

सीख: खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani:

‘  कछुआ और खरगोश की कहानी से हमें शिक्षा मिलती है कि हमें कभी भी अपने गुणों पर अभिमान नहीं करना चाहियेकिसी को भी कमजोर व छोटा नहींसमझना चाहिए. सभी अपनी जगह अच्छे होते है.।”

इन हिंदी की कहानी को पढ़े:

lomadi aur bakari ki kahani एक लोमड़ी और बकरी
Mehnat aur Kismat ki Kahani मेहनत और किस्मत
kachua aur bagula कछुआ और दो बगुले Kachhua Aur do bagule ki kahani
Ek paras Patthar Ki Kahani एक पारस पत्थर

Khargosh aur Kachhua

खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani
Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ

Khargosh aur Kachhua ki Kahani

Rabbit and Tortoise Story In Hindi Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ

ek bahut hee bada aur khubasoorat jangal tha. jangal mein sabhee jaanavaron hansee -khushee rahe the usee jangal mein ek taraph sabhee jaanavaron kee tarah se aur kachhua bhee rahate the, donon mein achchhee dostee thee. rojaana donon ese ple khelate hai mauj karate the. kharagosh yah jaanata tha ki vah bahut tej daudata hai aur kachhua bahut hee dheemee chaal se chalata tha.

yahee kaaran tha kihaus ko apanee tej chaal ka bahut ghamand tha aur hetal hamesha hee kachhuye ka samay samay par majaak udaaya karatee thee.] par kachhua apanee chaal ko jaanata tha, isalie kharagosh kee majaak banaane kee baat ka bura nahin maanata tha.

Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ kharagosh apane ghamand ke kaaran usane apane dost kachhua se bola- “dost, kya tum mere saath daud lagaane chaahoge.

yah sunakar kachhue nebhoomi se kaha, “nahin tum bahut tej daudate ho. main tumase ye daud nahin paoonga. butahaus ne kaise -kaise kachhue ko daud ke lie manaaya liya.

kachhua bola- mitrabhoomi jaisee tumhaaree marjee, agar tum daud karana chaahate ho to theek hai mujhe ko aapatti nahin hai.

yah tay kiya gaya kee daud kee kal suruaat kal hogee. agale din kharagosh aur kachhua donon daud ke lie taiyaar ho gae. daud shuroo ho gaee hai.

jangal ke sabhee jaanavaron kee daud dekhane ke lie aa gae. daud ke lie ek pahaadee par jaana tha jo pahale pahaadee par pahunchachega vahee jeetaga. jangal ke sabhee jaanavaron ko pata tha kee bet tej tejata hai unase ummeed thee ki kee kharagosh hee yah daud jeetaaga.

Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ daud shuroo kee gaee. kharagosh tejee se chal raha hai. vah bahut aage nikal gaya. kachhua dheere -dheere chalata hua aage badh raha tha. kharagosh ek chhaayaadaar ped ke neeche pahuncha aur peechhe mudakar dekha to use kachhua kaheen nahin dikha. thandee-thandee hava chal rahee thee savaar bhaagate- bhaagate thak gaee thee.

usane socha ki kachhua abhee bhee bahut peechhe hoga. kyon thoda thoda kar liya? yah sochakar vah dobaara karane vaalee daalahaus kee tarah hee opaind band kee use neend lag gaee. achaanak use neend aa gaee. vah gaharee neend mein so rahee thee.

kachhu aur khargosh ki kahani, rabbit and tortoisai story in hindi batua dheere -dheere aage badh raha tha. kuchh der mein kachhua bhee useen pahunch gaya aur dekhata hee dekhata hoon sheeld se aage nikal gaya. bahut der baad achaanak kee neend khulee usane aage-peechhe yahaan vahaan dekha yah sochane laga kachhua dikhaee nahin de raha.

vah bhaagana shuroo kiya aage chalate hee usane dekha kee kachhua pahaadee par pahunchane vaala hai. vahaan sehaus apanee pooree taakat lagaakar dauda par usakee pahaadee par pahunchane ke pahale hee kachhua pahaadee par pahunch chuka tha aur kachhua ne ise pahaadee jeet lee. jangal ke jaanavaron ko bahut aashchary hua ki vah dekh kar hairaan rah gaee. sabhee jaanavaron kachhua ke saahas aur jeet par bahut khush hue, use badhaee dene lage.

Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ

kharagosh ko apanee haar par bahut pachhataava hua. kharagosh apanee galatee aur abhimaan par bahut pachhataaya aur usane kachhua kee hansee udaane par kachhua se maafee maangee. is prakaar ghamandeebhoomi kee haar huee aur kachhue kee jeet.

seekh: Moral : Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ

kachhua aur kahaanee kee kahaanee se hamen shiksha milatee hai ki hamen kabhee bhee apane gunon par abhimaan nahin karana chaahie, kisee ko bhee kamajor aur chhote se samajhana chaahie. sabhee apanee jagah achchhe hote hain. .

Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ Rabbit and Tortoise Story In Hindi

A Brief History of Modern India (2019-2020 Edition) by Spectrum Books Modern history पर आधारित किताब खरीदने के लिए इस दिए लिंक पर क्लिक करो.

************************************************************

आपने इस post खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.

धन्यवाद!

1 thought on “Khargosh aur Kachhua ki Kahani खरगोश और कछुआ”

Leave a Comment