खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani

खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani

खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani
खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani

Khargosh aur Kachhua ki Kahani

एक जंगल में एक कछुआ तथा एक खरगोश रहते थे। एक दिन खरगोश ने कछुए से कहा ,” कछुआ क्यों न हम दोनों जंगल का दौड़ लगाये ” यह सुनकर कछुए ने खरगोश से कहा ,”नहीं तुम बहुत तेज दौड़ते हो। मैं तुमसे ये दौड़ जीत नहीं पाऊँगा।
परन्तु खरगोश ने कैसे -कैसे कछुए को दौड़ के लिए मना लिया। यह तय किया गया की दौड़ की कल सुरुआत कल सुबह होगी।

अगले दिन खरगोश तथा कछुआ दोनों दौड़ के लिए तैयार हो गए। दौड़ सुरु हो गया। खरगोश तेजी से भागने लगा। वह बहुत ही आगे निकल गया। कछुआ धीरे -धीरे चलता हुआ आगे बढ़ रहा था। खरगोश भागते- भागते थक गया। उसने सोचा कछुआ अभी बहुत ही पीछे होगा। क्यों न थोड़ा विश्राम कर लिया जाय?

यह सोचकर वह विश्राम करने लगा। अचानक उसे नींद लग गई. वह गहरी नींद में सो रहा था। परन्तु कछुआ धीरे -धीरे आगे बढ़ रहा था। देखते ही देखते वह खरगोश से आगे निकल गया। शाम होने पर जब खरगोश की नींद टूटी तो वह भागा-भागा आगे की तरफ बढ़ा परन्तु उसके पहुँचने के पहले कछुआ वह दौड़ जीत चुका था.
इस प्रकार घमंडी खरगोश की हार हुई तथा कछुए की जीत।

सीख: खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani:

किसी को भी कमजोर व छोटा नहीं समझना चाहिए. सभी अपनी जगह अच्छे होते है.

A Brief History of Modern India (2019-2020 Edition) by Spectrum Books Modern history पर आधारित किताब खरीदने के लिए इस दिए लिंक पर क्लिक करो.

************************************************************

आपने इस post खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani के माध्यम से बहुत कुछ जानने को मिला होगा. और आपको हमारी दी गयी जानकारी पसंद भी आया होगा. हमारी पूरी कोशिश होगी कि आपको हम पूरी जानकारी दे सके.जिससे आप को जानकारियों को जानने समझने और उसका उपयोग करने में कोई दिक्कत न हो और आपका समय बच सके. साथ ही साथ आप को वेबसाइट सर्च के जरिये और अधिक खोज पड़ताल करने कि जरुरत न पड़े.

यदि आपको लगता है खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani इसमे कुछ खामिया है और सुधार कि आवश्यकता है अथवा आपको अतिरिक्त इन जानकारियों को लेकर कोई समस्या हो या कुछ और पूछना होतो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट करके पूछ सकते है.

और यदि आपको खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani की जानकरी पसंद आती है और इससे कुछ जानने को मिला और आप चाहते है दुसरे भी इससे कुछ सीखे तो आप इसे social मीडिया जैसे कि facebook, twitter, whatsapps इत्यादि पर शेयर भी कर सकते है.

धन्यवाद!

1 thought on “खरगोश और कछुआ Khargosh aur Kachhua ki Kahani”

Leave a Comment